मजिस्ट्रेटी पॉवर के साथ लखनऊ पुलिस का पहला अभियान अवैध शराब, एसिड बिक्री व चाईनीज मांझे के खिलाफ

लखनऊ. राजधानी लखनऊ  के पहले पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडे  ने कहा है कि अब पुलिस  को मजिस्ट्रेटी अधिकार मिल गए हैं. इस नए अधिकार का इस्तेमाल जनता को राहत देने में होगा. अवैध रूप से एसिड  बेचने वालों, अवैध शराब के लिए स्प्रिट व चाईनीज मांझा बेचने वालों वालों के खिलाफ अभियान चलाया जाएगा. पुलिस कमिश्नरी बनने से पहले इस तरह के अभियान के लिए पुलिस को मजिस्ट्रेट की जरूरत होती थी.


इससे पहले 1994 बैच के आईपीएस अफसर सुजीत पांडे ने बुधवार सुबह लखनऊ के पुलिस कमिश्नर का चार्ज संभाला. सुजीत पांडे ने कहा कि हम एक बेहतरीन टीम तैयार कर रहे हैं, जो जनता की समस्याओं के निस्तारण के लिए 24 घंटे पूरी ईमानदारी से काम करेगी. सुजीत पांडे ने कहा कि राजधानी में स्मार्ट, सेंसिटिव और प्रोफेशनल पुलिसिंग हमारी प्राथमिकताएं हैं.

24 घंटे जनता को बेहतर सेवाएं देंगे

सुजीत पांडे ने कहा कि हम 24 घंटे जनता को बेहतर सेवाएं देंगे. महिलाओ पर अत्याचार को लेकर हम और अधिक सेंसटिव होंगे. छोटी छोटी चीजो को हम प्राथमिकता देंगें. यहां की ट्रैफिक व्यवस्था को गंभीरता से लेंगें. हम व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए समय-समय पर ट्रेनिंग भी देंगे. न्यूज़ 18 से बात करते हुए सुजीत पांडे ने कहा कि कमिश्नरी सिस्टम में पुलिस सिटीजन सेंट्रिक सर्विस देगी. पब्लिक डिलीवरी सिस्टम को मजबूत किया जाएगा. सुजीत पांडेय ने कहा कि हमारी प्राथमिकता है कि जितने भी लोग हमारे पास आएं उनको सुना जाए और राहत दी जाए.

पॉवर मिलने के साथ ही बढ़ती है रिस्पांबिल्टी
कमिश्नरी सिस्टम से पुलिस की पॉवर बढ़ने के सवाल पर उन्होंने कहा कि पॉवर मिलने के साथ ही रिस्पांबिल्टी भी बढ़ जाती है. पॉवर का निष्पक्षता के साथ, सोच समझ कर इस्तेमाल किया जाएगा. पुलिस कमिश्नरी सिस्टम से जनता को क्या फायदा होगा, इस सवाल पर सुजीत पांडे ने कहा कि पहले जिन सर्विस को देने में ज्यादा टाइम लगता था हम उस टाइम गैप को कम करेंगें. हम पब्लिक को हर हाल में रिलीफ देंगें.

Related Articles

Back to top button