मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री का दावा, हर माह पैदा होंगो एक लाख रोजगार

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिए है कि प्रदेश में हर माह लगभग एक लाख रोजगार का सृजित किया जाएं।

भोपाल: मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिए है कि प्रदेश में हर माह लगभग एक लाख रोजगार का सृजित किया जाएं।मुख्यमंत्री चौहान ने मंत्रालय में कल संभागायुक्त, आई.जी., कलेक्टर्स, एवं पुलिस अधीक्षकों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दूसरे सत्र को संबोधित कियें।

और उन्होंने कहा की प्रदेश के हर जिले में शासकीय एवं निजी क्षेत्रों में नियोजन तथा स्वरोजगार के माध्यम से रोजगार के अधिक से अधिक अवसर सृजित तथा प्रदेश में हर माह लगभग 01 लाख रोजगार सृजित किए जाएं। इसके साथ ही प्रदेश के सभी जिले में हर माह रोजगार मेले आयोजित कर लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया जाए। छोटे जिलों में 1.5 से 02 हजार और बड़े जिलों में 03 से 05 हजार रोजगार के अवसर सृजित करने के प्रयास किए जाएं। इसके लिए ‘रोजगार सेतु’ पोर्टल का प्रभावी उपयोग किया जाए।

बन रहे है मास्टर प्लान

उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के ग्रामों के समग्र विकास के लिए नगरों की तरह ग्रामों का भी मास्टर प्लान बनाया जाए। इसके तहत गांवों में अधोसंरचना विकास, स्थाई परिसंपत्तियों के निर्माण तथा हितग्राहीमूलक कार्य योजनाबद्ध तरीके से कराए जाएं। इनमें मनरेगा, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, खेत सड़क योजना आदि का अधिक से अधिक उपयोग किया जाए। उन्हाेंने कहा कि प्रदेश में एक जिला-एक उत्पाद योजना के तहत जिलों के स्थानीय उत्पादों को प्रोत्साहन देन और उन्हें बाजार उपलब्ध प्रदान करने में अच्छा कार्य किया गया है।

उन्होंने बैंकों द्वारा सिबिल स्कोर के आधार पी.एम. स्वनिधि योजना में ऋण वितरण रोके जाना घोर आपत्तिजनक माना और कहा कि इस संबंध में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर निवेदन किया जाएगा कि इस योजना के तहत बैंकों द्वारा ऋण देने के लिए लोगों का सिबिल स्कोर देखने की जरूरत नहीं है। सिविल आधार पर प्रकरणों में ऋण वितरण नहीं रोका जाए।

यह भी पढ़े:पशुपालन विभाग घोटाले में फरार चल रहे निलंबित DIG की बढ़ी इनामी राशि

Related Articles