Madras HC : क्या अदालत की फटकार से सुधरेगा इलेक्शन कमीशन

चेन्नई : मद्रास हाईकोर्ट (Madras HC) ने सोमवार को कोविड इंफेक्शन के प्रसार के लिए इलेक्शन कमीशन को जिम्मेदार ठहराते हुए जमकर फटकार लगाई। कोविड की दूसरी लहर उभरने के दौरान पोलिटिकल पार्टिओं को चुनावी रैलियों की इजाज़त देने को लेकर हाईकोर्ट ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर से आई तबाही के लिए कही न कहीं इलेक्शन कमीशन ही जिम्मेदार है।

चीफ जस्टिस संजीब बनर्जी ने इस मसले की सुनवाई के दौरान कहा कि चुनावी रैलियों की वजह से आई तबाही के लिए इलेक्शन कमीशन के अधिकारियों के खिलाफ हत्या के आरोपों पर मुकदमा दर्ज किया जाना चाहिए। क्यूंकि ऐसे बुरे दौर में रैली की इजाज़त देकर यह संस्था कोरोना की दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार है।

Madras HC ने  मतगणना  रोकने की चेतावनी दी

कोर्ट ने वार्निंग दी है कि अगर दो मई को इलेक्शन कमीशन ने कोरोना प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित करने के लिए उचित योजना नहीं बनाई तो अदालत की तरफ से  मतगणना पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी जाएगी। मद्रास हाई कोर्ट ने इलेक्शन कमीशन को निर्देश दिया है कि वह 30 अप्रैल तक यह चेक करें कि मतों की गिनती के दिन 2 मई को कोविड प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा।

अदालत ने सुनवाई के दौरान कहा कि आज देश की हेल्थ का मसला काफी अहम है, लेकिन चिंता की बात तो यह है कि यह बात अदालतों को याद दिलानी पड़ रही हैं। क्या इस वक्त आपको नहीं दिख रहा की जिंदा रहने के लिए लोगों को कितना संघर्ष करना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें : Bombay HC : वॉट्सऐप ग्रुप के मेंबर की हरकत के लिए एडमिन ज़िम्मेदार नहीं

Related Articles