माघ मेला: कल्पवासी शिविर में लगी भीषण आग, आग की चपेट में कई तम्बू

प्रयागराज: यूपी के प्रयागराज में संगम नगरी में चल रहे माघ मेले (Magha Mela) में कल्पवासी शिविर में शनिवार दोपहर भीषण आग लग गयी। बताया जा रहा है कि झूसी सेक्टर-4 मोरी मार्ग में कई तम्बू आग की लपट में झुलस गए। आनन-फानन में फायर ब्रिगेड की टीम ने पहुंचकर किसी तरह आग पर काबू पाया। राहत की बात यह है कि किसी श्रद्धालु को कोई नुकसान नहीं पंहुचा। शिविर में रहने वाले सभी लोग सुरक्षित हैं।

फायर ब्रिगेड को करनी पड़ी कड़ी मशक्‍कत

बता दें कि माघ मेला (Magha Mela) क्षेत्र के मोरी मार्ग गाटा संख्या 11 रेलवे ब्रिज के नीचे सेक्टर नंबर-4 में मनीष कुमार त्रिपाठी के कल्पवासी शिविर में आज भीषण आग लग गई। आग की सूचना पर मेला क्षेत्र में अफरा-तफरी का माहौल बन गया। लोगों ने स्थानीय पुलिस को सूचना दी, तब तक कई टेंट जलकर खाक हो चुके थे। वहां के लोगों ने बताया कि लगभग 6 टेंट जल गए हैं और कल्पवासियों का टेंट में रखा सामान भी जल गया। फिलहाल, किसी के हताहत की सूचना नहीं मिली है। आग की सूचना पर मौके पर पहुंची फायर ब्रिगेड की टीम ने किसी तरह आग पर काबू पाया। आग लगने का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है। मेला क्षेत्र में पूरी तरह स्तिथि सामान्य है।

Magha Mela में तेजी से क्यों फैलती है आग

गौरतलब है कि माघ मेले (Magha Mela) में श्रद्धालुओं के रहने के लिए जो शिविर लगाए जाते हैं वे सारे तंबू कपड़ों से बने होते हैं। शिविरों के अंदर एक से दूसरे तंबू के बीच ज्यादा दूरी नहीं होती है। आसपास सटाकर तंबू लगाए जाने की वजह से आग लगते ही दूसरे तंबू भी उसकी चपेट में आने लगते हैं। मेला क्षेत्र खुला होने और हवा की वजह से भी आग की लपटें तंबुओं को अपनी चपेट में ले लेती हैं। इससे एक के बाद एक तंबू लाइन से जलने लगते हैं। समय रहते मेले में लगी आग पर काबू न किया जाए तो बड़ा हादसा होने की संभावना हो सकती है।

यह भी पढ़ें: Lok Sabha: जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन संशोधन विधेयक 2021 हुआ पास, जानें इस बिल की खासियत

 

Related Articles

Back to top button