गंगा पूजन के साथ मेले की तैयारियों को दिया गया अंतिम रूप

Magh Mela

इलाहाबाद। हिन्दू धार्मिक मान्यता के अनुसार किसी भी शुभ कार्य करने से पहले पूजा अर्चना किया जाता है। इस परम्परा को निभाते हुए संगम नगरी में गंगा पूजन के साथ ही माघ मेले की तैयारियां शुरू हो गई। माघ मेला सकुशल संपन्न कराया जा सके, इस कामना के साथ सोमवार को शहर के प्रशासनिक अधिकारी कमिश्नर और डीएम ने पूरे विधि-विधान के साथ वैदिक मंत्रोच्चारर के बीच गंगा पूजन किया। इस दौरान हजारों की संख्या में लोग मौजूद थे इनके बीच गंगा तट पर गंगा पूजन का भव्य नजारा देखने को मिला।

जल्द पूरी होंगी तैयारियां
कमिश्नर राजन शुक्ल और डीएम संजय कुमार ने सं ृयुक्त रूप से मेले के लिए की जा रहीं तैयारियों की जानकारी दी। उन्होने बताया कि गंगा तट पर आयोजित होने वाले माघ मेले की प्रशासनिक स्तर पर तैयारियां की जा रही है। गंगा पूजन के बाद माघ मेले की तैयारियों को जल्द से जल्द पूरा किया जाएगा। सभी कल्पवासी का ख्याल रखा जाएगा।

Magh Mela 1

देश स्तरीय मेला का भव्य आयोजन
प्रयाग की धरती और संगम के तट पर लगने वाला माघ मेला पूरे भारत में प्रसिद्ध है। हिन्दू पंचांग के अनुसार 14 जनवरी या 15 जनवरी को मकर संक्रांति के पावन अवसर के दिन माघ मेला आयोजित किया जाता है। इस अवसर पर संगम में स्नान करने का बड़ा महत्व होता है। इलाहाबाद के माघ मेले की ख्याति पूरे विश्व में फैली हुई है और इसी के चलते इस मेले के दौरान संगम की रेतीली भूमि पर तंबुओं का एक शहर बस जाता है।

ढाई करोड़ श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद
माघ मेला अधिकारी हरिओम शर्मा का कहना है कि पिछली बार माघ मेले में ढ़ेड़ करोड़ लोग आये थे लेकिन इस बार मेले में करीब ढ़ाई करोड़ श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद है। इस वजह से इस बार माघ मेला 1,540 बीघा जमीन में बसाया जाना है। इसके लिए 85 बीघा जमीन कम पड़ रहा है, क्योंाकि अभी गंगा पूर्व दिशा में बह रही है जिससे 85 बीघा जमीन जलमग्नन हो गया है। इसके लिए इंतजाम किया जा रहा है। गंगा की कटान को रोकने के लिए सिंचाई विभाग के लोग प्रयास कर रहे हैं। जल्द ही उस पर नियंत्रण प्राप्त कर लिया जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button