IPL
IPL

Magha Purnima 2021: प्रयागराज में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़, जानें संतान प्राप्ति के उपाय

प्रयागराज के संगम तट पर माघ पूर्णिमा के दिन माघ-मेले में जाने और स्नान करने का विशेष महत्व होता है

लखनऊ: माघ पूर्णिमा (Magha Purnima) के पवित्र अवसर पर प्रयागराज (Prayagraj) संगम तट पर उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़। इस दिन संगम पर माघ-मेले में जाने और स्नान करने का विशेष महत्व होता है। माघ पूर्णिमा के दिन कोई भी कार्य करने में बाधा नहीं आती है यह दिन बहुत ही शुभ माना जाता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi) ने सभी देशवासियों को माघ पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाएं दी हैं।

भारतीय सनातन संस्कृति का वंदन

उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट करके कहा कि तीर्थराज प्रयागराज में माघी पूर्णिमा के पावन अवसर कल्पवासियों तथा श्रद्धालुओं पर ‘पुष्पवर्षा’ भारतीय सनातन संस्कृति का वंदन है। पवित्र संगम में आस्था और विश्वास की डुबकी सभी के लिए मंगलकारी हो।

श्रद्धालुओं पर पुष्प वर्षा

प्रयागराज में माघ पूर्णिमा के दिन संगम तट पर स्नान कर रहे श्रद्धालुओं पर जिला प्रशासन ने हेलीकॉप्टर से पुष्प वर्षा की।

यह भी पढ़ेCorona Update: जम्मू-कश्मीर में ‘अनलॉक’ दिशा-निर्देश’ इस दिन होंगे लागू, भारत में COVID-19 के 16,488 नए मामले

पूर्णिमा पंचांग

पूर्णिमा पंचांग के अनुसार मास की 15वीं और शुक्लपक्ष की अंतिम तिथि है जिस दिन ‘चंद्रमा’ (Moon) आकाश में पूरा होता है। इस दिन का भारतीय जनजीवन में अत्यधिक महत्व हैं। हर माह की पूर्णिमा को कोई न कोई पर्व अथवा व्रत अवश्य मनाया जाता हैं। हिन्दू मान्यता के अनुसार माघ पूर्णिमा पर स्नान करने वाले श्रद्धालुओं को सुख और संतान की प्राप्ति होती है।

माघ पूर्णिमा (Magha Purnima) के दिन सुबह सूर्योदय से पहले किसी पवित्र नदी या जलाशय में स्नान करना चाहिए। स्नान के बाद सूर्य मंत्र का उच्चारण करते हुए सूर्य देव को अर्घ्य देना चाहिए। इस दिन स्नान के बाद काले तिल से हवन और काले तिल से पितरों का तर्पण करना बहुत ही शुभ माना जाता है। हरिद्वार, बनारस में दशाश्वमेध घाट और प्रयागराज के त्रिवेणी संगम पर स्नान को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है।

यह भी पढ़ेसलमान खान बने इस म्यूजिक लीग के ब्रांड एम्बेसडर, शेट से मेगा सेल्फी हुआ वायरल

Related Articles

Back to top button