Maha Kumbh 2021: बजट के दुरुपयोग, कार्यों में देरी को लेकर जांच शुरू

हरिद्वार: उत्तराखंड के हरिद्वार में आगामी 2021 में होने वाले महाकुंभ को देखते हुए चल रहे कुंभ कार्यों को लेकर जहां सरकार ने समयबद्ध तरीके से सभी निर्माण कार्य पूरा करने का निर्देश दिया है। वहीं हर की पौड़ी पर चल रहे सौंदर्यकरण के कार्यों के योजना के अनुरूप न होने से नाराज हुए केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक के निर्देश पर डीएम हरिद्वार सी. रविशंकर ने सौंदर्यकरण कार्यों का स्थलीय निरीक्षण कर कार्यदाई संस्था को कड़ी फटकार लगाई है।

नोटिस जारी करने के निर्देश

जिलाधिकारी सी. रविशंकर ने हर की पौड़ी और बेल वाला क्षेत्र का निरीक्षण कर वहां बिछाई जा रही कृतिम घास के औचित्य को लेकर कार्यदाई संस्था से जवाब तलब किया है। और इसका संतोषजनक जवाब ना देने पर उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए हैं।

गौरतलब है कि रोड़ी बेलवाला क्षेत्र कुंभ के लिए आरक्षित क्षेत्र बनाया गया है। जहां पर मेला पुलिस के कैंप और थाने आदि बनाए जाएंगे। वहीं हर की पौड़ी क्षेत्र पर भी गंगा सभा के पदाधिकारियों द्वारा योजना के अनुरूप कार्य न होने का मुद्दा उठाया जिसमें गंगा के बीच लगाई गई रेलिंग और प्रवेश द्वारों को लेकर आपत्ति की गई।

लापरवाही करने पर सख्त कार्रवाई के निर्देश

जिलाधिकारी सी. रविशंकर का कहना है कि स्थलीय निरीक्षण के बाद इस कार्यों की समीक्षा की जाएगी। जहां भी कमी पाई जाएगी और धन के दुरुपयोग का मामला सामने आएगा वहां पर कार्यों में सुधार के साथ-साथ कार्यदाई संस्था से की लापरवाही से हुई हानी की प्रतिपूर्ति भी की जाएगी। जिलाधिकारी हरिद्वार द्वारा हर की पौड़ी के सौन्दर्यकरण कार्यों के निरीक्षण के दौरान कार्यदाई संस्था ने बताया के निर्माण कार्यों में फेरबदल किया गया है और डीपीआर के अनुसार कार्य नहीं किए गए हैं वहीं कार्यों की लागत बढ़ने से भी जिलाधिकारी काफी नाराज नजर आए।

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि महामंत्री हरी गिरी और आचार्य महामंडलेश्वर अवधेशानंद गिरी भी कुंभ कार्यों में हो रही देरी को लेकर काफी नाराज हैं। हरिद्वार में अगले महा कुंभ के स्नान शुरू हो जाएंगे जबकि जगह-जगह सड़कें खुदी हुई हैं। और पुलों का काम अभी अधूरा पड़ा है, राजमार्ग का काम भी काफी धीमी गति से चल रहा है साथ ही बार-बार सड़कें उखड़ने से यहां के स्थानीय लोग व व्यापारी काफी परेशान है इसको लेकर कई बार प्रदर्शन भी हो चुके है।

घोटाले को लेकर हरीश रावत ने खड़े किए सवाल 

वहीं पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने भी महाकुंभ के कार्यों में केंद्र द्वारा बजट न देने तथा हर की पौड़ी के सौंदर्यीकरण के नाम पर हो रहे घोटाले को लेकर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने उत्तराखंड की भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत पर निशाना साधते हुए कहा कोरोना की आड़ में सरकार कुंभ कार्यों में हो रहे घोटाले व अन्य नेताओं पर पर्दा डाल रही है और कार्यों को समय से पूरा नहीं कर पा रही है जिसके कारण बार-बार सरकार कोरोना महामारी की दुहाई देकर यहां के व्यापारियों के हितों से खिलवाड़ कर रही है वही आने वाले तीर्थ यात्रियों की आस्था से भी भारी खिलवाड़ किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: 2020 में Twitter पर इन भारतीय खिलाड़ियों का रहा दबदबा

Related Articles