शरजील उस्मानी जैसे लोगों को बोलने पर रोक लगाएगी महाराष्ट्र सरकार

मुंबई :  अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (AMU) के पूर्व छात्र शरजील उस्मानी (Sharjeel Usmani) के खिलाफ विवादित भाषण देने के आरोप में मामला दर्ज किए जाने के बाद रविवार को महाराष्ट्र (Maharashtra) के उप मुख्यमंत्री अजीत पवार (Ajit Pawar) ने कहा कि राज्य सरकार (state government) ऐसे लोगों को किसी भी घटनाओं पर बोलने से रोक लगाएगी।

एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान पवार ने कहा कि शरजील को वहां मौजूद पूर्व मजिस्ट्रेट (एल्गर परिषद) द्वारा रोक दिया जाना चाहिए था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। सरकार इसको गंभीरता से लेते हुए सख्त कार्रवाई करेगी। सरकार ऐसे लोगों को किसी भी कार्यक्रम की अनुमति देते समय घटनाओं पर बोलने से रोक लगाने पर विचार कर रही है।

इसे भी पढ़े:  स्मृति ईरानी ने किसान कर्ज माफ़ी को लेकर राहुल गांधी पर किया तीखा हमला

बता दें कि 2017 की तर्ज पर इस बार भी 30 जनवरी को महाराष्ट्र के पुणे में एलगार परिषद (Elgar Council) का आयोजन किया गया था। जिसमें लेखिका अरुंधती राय, मुंबई उच्च न्यायलय के पूर्व जज बीजी कोलसे पाटिल, पूर्व आईएएस एसएम मुशरिफ सहित शरजील उस्मानी (Sharjeel Usmani) शामिल हुआ था।

इस कार्यक्रम में वह एक धर्म विशेष पर टिप्पणी किया था। जिसको लेकर महाराष्ट्र की सियासत गर्मा गई है। पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने उस्मानी के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की थी, और ठाकरे सरकार को अल्टीमेटम दिया था कि अगर करवाई नहीं हुई तो सरकार के खिलाफ आंदोलन पर बैठेंगे।

Related Articles

Back to top button