कश्मीर में पेट्रोलिंग और गार्ड ड्यूटी करते नज़र आयेंगे महेंद्र सिंह धोनी

श्रीनगर:  भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी फिर से सेना कि वर्दी पहने नज़र आयेंगे| वो 31 जुलाई को 106 टेरिटोरियल आर्मी बटालियन (पैरा) जॉइन करने वाले है| ये बात धोनी ने पहले ही साफ़ कर दिया था कि वेस्ट इंडीज के दौरे पर वो टीम इंडिया के साथ नहीं रहेंगे बल्कि इस दौरान सेना में अपनी सेवाए देंगे|

पेट्रोलिंग यूनिट का हिस्सा होंगे धौनी 

अधिकारी ने बताया कि यह पहला मौका होगा जब वह आम सैन्य अधिकारियों की तरह कश्मीर में लगभग 15 दिनों तक रहेंगे। उन्हें दक्षिण कश्मीर में किस जगह तैनात किया जाएगा, यह अभी तय नहीं है, लेकिन वह इन दिनों एक लेफ्टिनेंट कर्नल द्वारा अंजाम दी जाने वाली हर प्रकार की ड्यूटी निभाएंगे। दक्षिण कश्मीर में जहां भी उनकी यूनिट का दस्ता पेट्रो¨लग के लिए जाएगा, वह उसका हिस्सा बनेंगे।

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी फिर से सेना कि वर्दी पहने नज़र आयेंगे| वो 31 जुलाई को 106 टेरिटोरियल आर्मी बटालियन (पैरा) जॉइन करने वाले है| ये बात धोनी ने पहले ही साफ़ कर दिया था कि वेस्ट इंडीज के दौरे पर वो टीम इंडिया के साथ नहीं रहेंगे बल्कि इस दौरान सेना में अपनी सेवाए देंगे|

बता दें एमएस धोनी को 2011 में इंडियन टेरिटोरियल आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल का रैंक दिया गया था| धोनी का आर्मी प्रेम किसी से छिपा नहीं है| महेंद्र सिंह धोनी ने टीम इंडिया को क्रिकेट के हर फार्मेट में बुलंदियों तक पहुंचाया| लेकिन रांची का ये लड़का क्रिकेटर नहीं, कुछ और बनना चाहता था| धोनी ने एक इंटरव्‍यू में कहा था कि वह बचपन से ही फौजी बनना चाहते थे| वो रांची के कैंट एरिया में अक्सर घूमने चले जाते थे, लेकिन किस्मत को कुछ और मंजूर था| यही वजह रही कि वो फौज के अफसर नहीं बन पाए और क्रिकेटर बन गए|

धोनी साल 2015 में भी स्पेशल फोर्सेस के साथ ट्रेनिंग कर चुके हैं| साल 2015 में उन्होंने हवाई जहाज से 5 जंप लगाई थ|  जिसमें उन्होंने एक जंप 1200 फीट की ऊंचाई से लगाई थी| धोनी ने इस जंप से पहले पैराट्रूपर्स के साथ 12 दिन तक ट्रेनिंग की थी| इस बार भी धोनी ऐसी ही जंप लगा सकते हैं| अब धोनी की उम्र 38 साल हो चुकी है तो ऐसे में वो अपनी फिटनेस पर और काम कर रहे हैं|

Related Articles