बड़े इमामबाड़े में मौलाना अतहर की याद में हुई मजलिस, अकीदतमंदों ने दी शिरकत

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की राजधानी लखनऊ के बड़े इमामबाड़े (Big imambara) में रविवार को ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के अध्यक्ष रहे स्व. मौलाना मिर्जा मोहम्मद अतहर (Maulana Mirza Mohammad Athar) और उनके छोटे भाई स्व. मौलाना मिर्जा मोहम्मद अशफाक की बरसी पर मजलिस का आयोजन किया गया। मजलिस में उलेमा ने ज्यादा से ज्यादा इल्म हासिल करने पर जोर दिया।

बड़ा इमामबाड़ा में आयोजित मजलिस में तमाम उलमा सहित हजारों अजादारों ने शिरकत की। मजलिस में ईरान के कुम से आये आयतउल्ला मौलाना सैयद मुंतजिर मेहदी रिजवी ने ‘इल्म और इबादत’ शीर्षक से मजलिस को सम्बोधित किया। मौलाना ने कहा कि इल्म अहले बैत के पास था और वो इसके आलिम थे। उन्होंने ज्यादा से ज्यादा इल्म हासिल करने पर जोर दिया। मौलाना ने कहा कि खुम्स, जकात और सदका देना इबादत है, लेकिन असल इबादत इबादत ए परवरदिगार है। मजलिस का संचालन मौलाना यासूब अब्बास (Maulana Yasub Abbas) ने किया।

Maulana की याद में लगी फोटो प्रदर्शनी

आसिफी इमामबाड़े परिसर में मौलाना मिर्जा मोहम्मद अतहर मरहूम और मौलाना मोहम्मद अशफाक मरहूम की याद में एसएन लाल और आजम हुसैन की ओर से एक दिवसीय प्रदर्शनी लगाई गई। प्रदर्शनी में उनके द्वारा किए गए अहम कार्यों को दर्शया गया। इस प्रदर्शनी को देखने शहर की मेयर सयुंक्ता भाटिया समेत कई धर्मों के लोग पहुंचे।

यह भी पढ़ें: वित्त मंत्री ने बजट को दिया अंतिम रूप, कल सदन में होगा पेश

Related Articles

Back to top button