आजमगढ़ हेलीकाप्टर लैंडिंग एरिया में CM योगी की सुरक्षा में हुई बड़ी चूक

आज़मगढ़: कोरोना महामारी के मद्देनजर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जिलों के दौरे कर कोरोना से हालातों की समीक्षा कर रहे हैं. इसी के लिए आज CM आजमगढ़ पहुंचे. लेकिन हेलीकाप्टर लैंडिंग से पहले मुख्यमंत्री की सुरक्षा में बड़ी चूक दिखाई पड़ी. हेलीकाप्टर लैंड होने की वाला था कि इतने में ही अचानक से लैंडिंग एरिया में गाय दौड़ पड़ी. देखते ही देखते सुरक्षाकर्मियों ने उस गाय को दौड़ा लिया और किसी तरह घेर कर वहां से दूसरी तरफ उसकी दिशा की मोड़ दिया. जिसके बाद वहां मौजूद अखिकारियों और सुरक्षा कर्मियों ने राहत की साँस ली. उसके बाद सकुशल लैंडिंग के बाद CM योगी हेलीकाप्टर से उतरे और मौजूद कार्यकर्ताओं से मिले वहां से सीधे इंटीग्रेटेड सेंटर और अन्य स्थानों के लिए रवाना हो गए.

बता दें की प्रदेश के CM योगी सोमवार को पूर्वांचल दौरे पर थे. इसी के मद्देनजर वे आजमगढ़ दौरे पर पहुंचे. पुलिस लाइन पर बने हेलिपैड पर उनका हेलीकाप्टर लैंड हुआ, यहाँ से मुख्यमंत्री ने सीधे राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में इंटीग्रेटेड कोविड कंट्रोल कमांड सेंटर पहुंच कर व्यवस्था की जानकारी ली. यहां पर तैनात स्वस्थ्य कर्मचारियों से बातचीत की व उनके द्वारा सलाह देने के बारे में तैनात कर्मचारियों से पूछा. GGIC से उनका काफ़लिा सीधे आजमगढ़ शहर से सटे भंवरनाथ के पास कंटेन्मेंट जोन बने देवखरी व बिजौरा गांव पहुंचा. बिजौरा में कंटेनमेंट जोन का निरीक्षण किया. वहां बैंक के कर्मचारी पीड़ति परिवार से उन्होंने कोरोना से निबटने को की जा रही सरकारी व्यवस्था की जानकारी ली.

मुख्यमंत्री ने यहाँ देवखरी स्थित गांधी गुरुकुल इंटर कॉलेज में नवनिर्वाचित प्रधान व ANM से भी पूछताछ की. प्रधान से उन्होंने निगरानी समिति के बारे में पूछा और सरकारी सहयोग को लेकर भी बात की. सैनिटाइजेशन व जागरूकता अभियान को लेकर भी उन्होंने जानकारी ली. वही नवनिर्वाचित प्रधान रूपेश सिंह को चुनाव जीतने पर बधाई दी.

इससे पहले CM योगी पहुंचे थे गोंडा

गोंडा पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पत्रकारों से कहा कि ‘कोरोना महामारी से मुकाबले में प्रदेश को अच्छे परिणाम मिल रहे हैं. सक्रिय मामले 17 फीसदी से घट कर 2 फीसदी हो गए हैं. महामारी की पहली वेव में टेस्ट व ट्रीटमेंट के इंतजाम नही थे, उसे विकसित किया गया. उन्होंने कहा तीसरी लहर में बच्चों पर खतरे की आंशका है, इससे बचाव के लिए ठोस कदम उठाए जा रहे हैं. ‘अभिभावक स्पेशल बूथ’ के जरिये टीकाकरण को और तेज किया जाएगा. जिससे बच्चों को सुरक्षा कवच मिल सके.’

ये भी पढ़ें : UP में कोरोना का कहर जारी, 24 घंटे में 157 लोगों की मृत्यु, तीसरी लहर की तैयारी शुरू

Related Articles