नंदीग्राम हार पर Mamata Banerjee की याचिका, HC ने Suvendu Adhikari को जारी किया नोटिस

कोलकाता: कलकत्ता उच्च न्यायालय की एकल-न्यायाधीश पीठ ने बुधवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता Suvendu Adhikari को मुख्यमंत्री Mamata Banerjee द्वारा नंदीग्राम से विधानसभा चुनाव में उनकी हार को चुनौती देने वाली याचिका पर नोटिस जारी किया।  बता दें कि Mamata Banerjee नंदीग्राम से Suvendu Adhikari से हार गईं थीं। इस याचिका पर सुनवाई की अगली तारीख 12 अगस्त है।

Mamta Benerjee भी सुनवाई के लिए ऑनलाइन मौजूद थीं। उनके वकील संजय बसु ने बताया कि, “पीठ ने चुनाव आयोग को सभी रिकॉर्ड और EVM और वीडियो रिकॉर्डिंग जैसे उपकरणों को संरक्षित करने का भी आदेश दिया।”

न्यायमूर्ति शंपा सरकार द्वारा इस मामले की सुनवाई तब की जा रही है जब न्यायमूर्ति कौशिक चंदा ने याचिका पर सुनवाई से खुद को अलग कर लिया। वहीँ जिस तरह से तृणमूल कांग्रेस प्रमुख पर आरोप लगाया गया था, उस पर 5 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है।

Mamata Banerjee ने कलकत्ता उच्च न्यायालय का रुख किया था, जिसमें नंदीग्राम से अपने प्रतिद्वंद्वी Suvendu Adhikari से 1,956 मतों से हारने में अनियमितता का आरोप लगाया था। 32 साल में यह उनकी पहली चुनावी हार थी।

वकील संजय बसु ने ये बताया कि ‘पीठ ने यह भी कहा कि चुनाव याचिका में धारा 86(1) RPA के तहत कोई खामी नहीं है।’

TMC ने BJP उम्मीदवार के पक्ष में परिणाम घोषित होने के तुरंत बाद पुनर्मतगणना की मांग की, लेकिन चुनाव आयोग ने इस अनुरोध को ठुकरा दिया था। जिसके बाद TMC ने कोर्ट का रुख किया था।

इस मामले की सुनवाई शुरू में न्यायमूर्ति चंदा द्वारा की जानी थी। हालांकि, Mamata Banerjee ने “पक्षपात की आशंका” का हवाला देते हुए याचिका को किसी अन्य न्यायाधीश को स्थानांतरित करने के लिए कहा, क्योंकि न्यायमूर्ति चंदा ने 2019 में पीठ में अपनी पदोन्नति से पहले, अदालती मामलों में भाजपा नेताओं का प्रतिनिधित्व किया था और तस्वीरों में भाजपा राज्य इकाई के प्रमुख दिलीप घोष सहित अन्य के साथ मंच साझा करते हुए देखा गया था।

इस मामले की पहले सुनवाई कर रहे न्यायमूर्ति चंदा ने 7 जुलाई को अपने आदेश में कहा था, “इस तरह के गणनात्मक, मनोवैज्ञानिक और आक्रामक प्रयासों को खारिज करने की आवश्यकता है और याचिकाकर्ता पर 5 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है।” इस पैसे का इस्तेमाल कोविड से लड़ने के लिए किया जाएगा।

ये भी पढ़ें : 2029 में भारतीय गणराज्य का क्या होगा भविष्य? मुश्किल हालातों से निकलकर कौन बनेगा PM?

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles