ममता सरकार ने नरेंद्र तोमर को लिखा पत्र, मोदी सरकार से मांगी धनराशि

ममता बनर्जी ने सोमवार को केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को पत्र लिखा है। इस पत्रमे उन्होंने केंद्र सरकार से आग्रह किया है कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की धनराशि को ट्रांसफर किया जाए।

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को पत्र लिखा है। इस पत्र में उन्होंने केंद्र सरकार से आग्रह किया है कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की धनराशि को ट्रांसफर किया जाए। दरअसल, ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार के सामने इस योजना को लागू करने के लिए एक शर्त रखी थी। पश्चिम बंगाल की सीएम ममता ने कहा था कि यह धनराशि राज्य सरकार के माध्यम से किसानों तक पहुंचे।

हालांकि, लेकिन ममता की इस बात को लेकर केंद्र सरकार ने सहमति नहीं जताई थी और इसी के कारण केंद्र सरकार और बंगाल की सीएम के बीच खींचतान चल रही है। आपको अवगत करा दे की कोरोना महामारी के बीच किसानों के लिए पीएम किसान सम्मान निधि बहुत महत्वपूर्ण है। सरकार किसानों के खाते में हर साल 6000 रुपये जमा करती है।

ये भी पढ़ें : 20 जिलों के 90 निकायों में चुनावी तैयारियों की समीक्षा: चुनाव आयुक्त

मोदी सरकार को भेजा एक पत्र

ममता बनर्जी ने अपने पत्र में लिखा है कि इससे पहले भी उन्होंने इस संदर्भ में केंद्र की मोदी सरकार को एक पत्र भेजा था। ममता ने लिखा है, एकबार फिर से इस बात का मैं आपसे आग्रह करती हूं कि यह धनराशि राज्य सरकार को उपलब्ध करा दिया जाए, इसके बाद सरकार किसानों को पूरी जिम्मेदारी के साथ वितरण कर सके। सिर्फ इतना ही नहीं, किसानों को किये गए रकम वितरित की लाभान्वित किसानों की सूची भी आपको उपलब्ध करा दी जाएगी। मुझे उम्मीद है कि इस पर जल्द से जल्द कोई निर्णय लिया जाएगा। फिर मुझे जानकारी दी जाएगी।

ये भी पढ़ें : अगले सप्ताह अमेरिकियों को मिलेगी कोविड-19 राहत राशि: स्टीवन मेनुचिन

खुद कमीशन खाना चाहती है राज्य सरकार

उधर इस मामले पर भाजपा के आइटी सेल के हेड व बंगाल के सह प्रभारी अमित मालवीय ने ममता सरकार से कहा कि बंगाल एक ऐसा राज्य है जिसने अभी प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के लाभ के लिए अपने किसानों की सूची अभी तक केंद्र सरकार को नहीं भेजी है।‌ इस संदर्भ में उन्होंने ट्वीट कर के लिखा है कि ममता सरकार यह लाभ का पैसा खुद खाते में चाहती है न की 72 लाख किसानों को इसका सीधे लाभ मिले क्योंकि राज्य सरकार खुद कमीशन खाना चाहती है।

 

Related Articles

Back to top button