मनीषा कोइराला और छात्राएं दोनों एक दूसरे को देखते ही रह गए

 

Manisha

कुंडा (प्रतापगढ़, उत्‍तर प्रदेश)| उत्तर प्रदेश के कुंडा पहुंचीं सिने तारिका मनीषा कोइराला यहां के कृपालु महिला कालेज के वार्षिकोत्सव में छात्राओं द्वारा प्रस्तुत सांस्कृतिक कार्यक्रम देखकर अचंभित रह गईं। कृष्ण वंदना हो या ऋतुओं का चित्रण, सभी में छात्राओं का प्रदर्शन देखते ही बनाता था। देशभक्ति पर आधारित नृत्य नाटिका और ‘ग्रैंड फिनाले’ को देखने के बाद पूरा परिसर तालियों से गुंजायमान हो उठा।
मनीषा ने कहा कि लड़कियां खुद को किसी से कम न समझें। आने वाला दौर उन्हीं का है और लड़कियों ने साबित किया है कि यदि उन्हें अच्छी शिक्षा और समुचित अवसर मिलें तो वे किसी भी मामले में पुरुषों से कम नहीं हैं।

जगदगुरु कृपालु परिषत द्वारा संचालित कृपालु महिला महाविद्यालय के षष्टम वार्षिकोत्सव के मौके पर कुंडा में स्थित महाविद्यालय परिसर पहुंचीं मनीषा कोइराला को देखने और उनसे मिलने के लिए छात्राओं में बेहद उत्साह था। मनीषा का स्वागत जेकेपी के प्रतिनिधि सीए राम पुरी ने किया। उनके साथ जगदगुरु कृपालु परिषत की तीनों अध्यक्षाएं- विशाखा त्रिपाठी, श्यामा त्रिपाठी और कृष्णा त्रिपाठी भी मौजूद थीं। इस मौके पर छात्राओं में मनीषा कोइराला को देखने और उनके पास आने का क्रेज खूब नजर आया।

मनीषा ने कहा, “जब मुझे यहां आने के लिए कृपालु परिषत के राम पुरी जी ने आमंत्रित किया तो मैंने यह नहीं सोचा था कि ऐसी जगह पर लड़कियों की शिक्षा के लिए किसी भी बड़े शहर के नामी स्कूलों की तरह सारी सुविधाएं होंगी। आपके इस वार्षिक उत्सव में शामिल होकर मुझे प्रसन्नता तो है ही साथ ही गर्व का भी अनुभव हो रहा है।”

इससे पूर्व वार्षिकोत्सव का शुभारंभ उत्तर प्रदेश प्रादेशिक सहकारिता संघ के चेयरमैन आदित्य यादव ने बतौर मुख्य अतिथि किया। जगदगुरु कृपालु परिषद द्वारा संचालित प्राइमरी, इंटरमीडिएट और महाविद्यालय की सभी कक्षाओं में प्रथम तीन स्थान प्राप्त करने वाली छात्राओं को मुख्य अतिथि आदित्य यादव एवं परिषत की अध्यक्षा डॉ. विशाखा त्रिपाठी ने मेडल और प्रमाणपत्र वितरित किए। षष्टम वार्षिकोत्सव उत्थान में राज्यमंत्री विजय मिश्रा ने भी शिरकत की।

परिषद के प्रतिनिधि राम पुरी ने कार्यक्रम में आए सभी विशिष्ट अतिथियों का धन्यवाद किया तथा इस पूरे आयोजन को सफल बनाने के लिए छात्राओं और इवेन्ट प्लान करने वाली टीम की सराहना की। उन्होंने कहा, “कृपालु शिक्षण संस्थान में हमारा हमेशा यह प्रयास रहता है कि हम छात्राओं को सबसे बेहतर सुविधाएं और अवसर प्रदान करें और हमारी छात्राओं ने हमेशा साबित किया है कि वे किसी भी अन्य आधुनिक संस्थान की छात्राओं से कम नहीं हैं।”

उन्होंने सहयोग और उत्साहवर्धन के लिए परिषद की अध्यक्षाओं का आभार व्यक्त किया। जगदगुरु कृपालु परिषद द्वारा संचालित शिक्षण संस्थानों में करीब चार हजार बालिकाओं को प्राइमरी से परास्नातक स्तर तक पूर्णतया नि:शुल्क शिक्षा प्रदान की जाती है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button