पीएम जानेंगे मनरेगा मजदूरों का सच

0

images (1)

लखनऊ। मनरेगा में काम करने वाले मजदूरों के आधार कार्ड पर अब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सीधी नजर रहेगी। आधार कार्ड की सच्चाई क्या है? कितने मजदूरों के पास आधार कार्ड है या नहीं? प्रधानमंत्री वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए यह सच जानेंगे। 30 दिसंबर को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए गोंडा जिले में प्रधानमंत्री वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए मुखातिब होंगे।

29 दिसंबर तक पंजीकृत मनरेगा मजदूरों की फीडिंग 40 प्रतिशत तक कराए जाने के निर्देश ने सभी के होश उड़ा दिए हैं। महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी एक्ट (मनरेगा) के तहत काम करने वाले मजदूरों को आधार से जोडऩे की योजना जिले में बीते साल से चल रही है।

गोंडा में तीन लाख 27 हजार 580 मजदूर पंजीकृत हैं। इसमें 24 हजार 758 मजदूरों के आधार कार्ड की ही फीडिंग का कार्य हुआ है। डीसी मनरेगा मृणाल सिंह ने बताया कि 29 दिसंबर तक सभी बीडीओ व एपीओ को मनरेगा में एक्टिव वर्कर्स के बाबत काम कराने के निर्देश दिए गए हैं।

loading...
शेयर करें