लगातार तीसरे महीने manufacturing सेक्टर की गतिविधियों में हुआ सुधार

नई दिल्ली : एक सर्वे रिपोर्ट के मुताबिक भारत की manufacturing सेक्टर की गतिविधियों में लगातार तीसरे महीने सुधार देखने को मिला है। हालांकि फ्यूल, रॉ मैटेरेयिल और ट्रांसपोर्टेशन की बढ़ती कीमतों के चलते लागत की दर पांच महीने के हाईएस्ट  पर पहुंच गई है।

डिमांड बढ़ने से आया है manufacturing में उछाल

इस कड़ी में रिपोर्ट के मुताबिक मैन्युफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स  सितंबर में बढ़कर 53.7 हो गया, जो अगस्त में 52.3 था। जानकारों  यह मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की गतिविधियों में मज़बूती का सबूत है।आंकड़ों के मुताबिक लगातार तीसरे महीने मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की गतिविधियों में विस्तार का संकेत मिला है। इस कड़ी में रिपोर्ट की डायरेक्टर, पोलियाना डी लीमा ने कहा कि मांग में बढ़ोतरी के साथ ही भारतीय मैन्युफैक्चरर ने सितंबर में उत्पादन काफी हद तक बढ़ाया है। कोरोना संबंधी प्रतिबंधों में ढील दिए जाने से मांग में सुधार देखने को मिला है, इससे देखते हुए मैन्युफैक्चरर ने उत्पादन बढ़ाने पर ध्यान दिया है।

हाल में कोरोना वायरस के मामलों में बढ़ोतरी और इसे रोकने के लिए लगे सख्त प्रतिबंधों के चलते जून में यह रेटिंग घटकर 48.1 रह गया था, जो मई में 50.8 थी।

यह भी पढ़ें : देशभर के छात्रों के लिए केंद्र का बड़ा फैसला,असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए नहीं होगी PhD डिग्री की जरूरत

Related Articles