झारखंड में ऐसे कई पर्यटन स्थल जिनकी कोई पहचान नहीं: हेमंत सोरेन

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड के पर्यटक स्थलों को देखने के लिए जो सैलानी आते हैं, उनकी डिटेल्स जानकारी रखने के लिए मैकेनिज्म बनाया जाए।

रांची: झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने गुरूवार को कहा कि राज्य में पर्यटन के क्षेत्र में काफी संभावनाएं हैं। सोरेन ने यहां पर्यटन, कला, संस्कृति, खेलकूद और युवा कार्य विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान कहा कि राज्य में ऐसे कई पर्यटक स्थल हैं, जिनकी ख्याति देश- दुनिया में हैं, लेकिन ऐसे भी कई पर्यटक स्थल हैं, जिनकी पहचान नहीं हो सकी है। इन पर्यटक स्थलों की पहचान करने के लिए स्थानीय लोगों से जानकारी लेने की दिशा में कदम उठाया जाए और फिर इन्हें विकसित कर पर्यटन के मानचित्र पर स्थापित किया जाए।

पर्यटकों का डॉक्यूमेंटेशन जरूरी: सोरेन 

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड के पर्यटक स्थलों को देखने के लिए जो सैलानी आते हैं, उनकी डिटेल्स जानकारी रखने के लिए मैकेनिज्म बनाया जाए। ताकि उन्हें यहां यदि किसी तरह की परेशानी होती है तो उसका त्वरित समाधान निकाला जा सके।

सोरेन ने ने कहा कि झारखंड के जो पर्यटक स्थल हैं, उनका डॉक्यूमेंटेशन कराने की व्यवस्था विभाग करे। इसके बाद विभिन्न माध्यमों से इसका प्रचार-प्रसार सुनिश्चित किया जाए, ताकि सैलानियों तक इसकी जानकारी पहुंच सके और वे इसे देखने के लिए आकर्षित हों। उन्होंने यह भी कहा कि एक पर्यटक स्थल पर राज्य के दूसरे पर्यटक स्थलों की भी विस्तृत जानकारी देने की व्यवस्था हो। इसके लिए साइनेजेज का व्यापक स्तर पर इस्तेमाल किया जाए, ताकि पर्यटक उस पर्यटन स्थल को देखने के लिए जाएं।

मुख्यमंत्री को दी गयी तमाम योजनाओं की जानकारी

इस क्रम में मुख्यमंत्री को पर्यटन, कला, संस्कृति, खेलकूद और युवा कार्य विभाग की प्रधान सचिव ने चलाए जा रहे कार्यक्रमों, गतिविधियों और योजनाओं की जानकारी दी। इस मौके पर मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, पर्यटन, कला संस्कृति, खेलकूद और युवा कार्य विभाग की प्रधान सचिव पूजा सिंघल, खेल निदेशक जीशान कमर, पर्यटन निदेशक ए डोड्डे प्रमुख रुप से उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें- भाजपा सरकार गरीबों व किसानों के जीवन में खुशहाली लाने के लिए समर्पित: जय प्रताप सिंह

Related Articles