बादल फटने और लैंडस्लाइडिंग से जम्मू-कश्मीर व हिमाचल में फसे कई सैलानी

नई दिल्ली: देश के पहाड़ी इलाकों में लगातार लैंडस्लाइडिंग की खबरें आ रही हैं। हिमाचल प्रदेश के लाहौल -स्पीति में बादल फटने और भारी बारिश के बाद जगह-जगह भूस्खलन होने से 144 पर्यटक और स्थानिय लोगों समेत 204 लोग अभी भी फंसे हुए हैं। मौसम खराब होने के कारण प्रदेश सरकार के हेलीकॉप्टर से मदद लेने की योजना बनायी जा रही है। कई जगह रास्ते एवं पुल क्षतिग्रस्त हो गये, जिनके फिलहाल ठीक होने की कोई संभावना नहीं है। लोगों को एक मंदिर में ठहराया गया है और उन्हें पर्याप्त भोजन दिया जा रहा है।

बता दें हिमाचल प्रदेश के लाहौल-स्पीति में भूस्खलन होने के बाद 144 पर्यटक फंसें हैं। पट्टन घाटी में 204 लोग फंसे थे, जिनमें से 60 को बाहर निकाला गया है। त्रिलोकीनाथ में 100 से अधिक और फूदान के गांवों में 35 से अधिक पर्यटक फंसे हैं। लोगों को निकालने के लिए राज्य सरकार से हेलीकॉप्टर का सहयोग माँगा गया है। वहीँ जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ में भी बादल फटने के बाद बचाव अभियान तेज हो गया है। वहीँ वायुसेना के हेलीकॉप्टरों की मदद से लोगों तक खाना पहुंचाया जा रहा है।

आपको बता दें लाहौल घाटी के झलमान,शांसा, थिरोट इलाकों में बादल फटने के कारण त्रिलोकीनाथ में 100 से अधिक और फूदान के गांवों में 35 से अधिक टूरिस्टों के फसे हुए होने की है। जिनमें 57 कुल्लू के, पंजाब और मंडी के सात-सात तथा होशियारपुर के पांच एवं संगरूर के दो लोग हैं। वहीं खराब मौसम के बाद भी वायुसेना ने जम्मू-कश्मीर में बादल फटने की घटना से प्रभावित किश्तवाड़ जिले में बचाव एवं राहत सामग्री के साथ हेलीकॉप्टरों के आठ चक्कर लगवाये और लापता 20 लोगों का पता लगाने के अभियान को तेज किया गया।

दचन तहसील के सुदूर होंजर गांव में बुधवार तड़के बादल फटने की घटना में सात लोगों की मौत हो गई और 17 अन्य व्यक्ति जख्मी हो गए। इस घटना में 21 घर, एक राशन भंडार, एक पुल, एक मस्जिद और गायों के लिए बनी 21 शेड भी क्षतिग्रस्त हो गई।

जम्मू में सेना के जनसंपर्क अधिकारी लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने बताया कि वायुसेना के तीन हेलीकॉप्टरों जम्मू, उधमपुर और श्रीनगर से एक एक, का राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) तथा राज्य आपदा मोचन बल (SDRF) की संयुक्त टीमों को पहुंचाने में इस्तेमाल किया गया। हेलीकॉप्टरों ने 8 चक्कर लगाये और 2250 किलोग्राम राहत सामग्री, NDRF एवं SDRF के 44 कर्मियों, चार चिकित्सा सहायकों को पहुंचाया तथा गंभीर हालत के दो मरीजों को विशेष इलाज के लिए सोंदार से किश्तवाड़ पहुंचाया।

ये भी पढ़ें : कांग्रेस में ‘चाणक्य’ की भूमिका में नज़र आ सकते हैं PK, राहुल ने वरिष्ठ नेताओं से…

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles