मराठा आंदोलन हुआ हिंसक, युवक नदी में कूदा, सांसद से भीड़ की बदसलूकी

मुंबई: मराठा आरक्षण की मांग को लेकर मराठा आंदोलनकारियों ने आज महाराष्ट्र के कई ज़िलों में बंद बुलाया है. आंदोलनकारियों ने कई गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया है. कई जगह लोगों ने चक्का जाम कर रखा है. मराठा मोर्चा के लोगों ने औरंगाबाद-पुणे हाइवे पर सड़क बंद कर रखा है. वहीं ये आंदोलन हिंसक रूप ले चुका है.अंतिम संस्कार में पहुंचे शिवसेना सांसद से जहां भीड़ ने बदसलूकी की वहीं एक और युवक आरक्षण आंदोलन के दौरान नदी में कूद गया. हालांकि, उसकी जान बचा ली गई.

मृतक काकासाहेब शिंदे के शव का अंतिम संस्कार करने से इनकार किया 

प्रदर्शनकारियों ने मांगे पूरी ना होने तक मृतक काकासाहेब शिंदे के शव का अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया है. कई प्रदर्शनकारियों ने सिर मुंडवा कर अपना विरोध भी जताया. इस बीच मराठा समुदाय की नाराजगी को देखते हुए औरंगाबाद के डीएम उदय चौधरी ने मराठा क्रांति मोर्चा की अधिकांश मांगे मान ली है.

मौत के बाद मराठा संगठन का प्रदर्शन और तेज

युवक की मौत के बाद मराठा संगठन का प्रदर्शन और तेज हो गया है. इसके पहले महाराष्ट्र में हर साल होने वाली धार्मिक यात्रा वारी को लेकर कई मराठा संगठनों ने सीएम फडणवीस के कार्यक्रम में बाधा डालने की धमकी दी थी, जिसके बाद मुख्यमंत्री ने इस कार्यक्रम में शामिल नहीं होने का फैसला किया था. मराठा नेताओं का कहना है कि आज पूरे राज्य में बंद का आह्वान किया है.

मृतक काकासाहेब शिंदे के परिवार को 10 लाख रुपये का मुआवजा

इस बारे में डीएम उदय चौधरी ने बताया कि सरकार मृतक काकासाहेब शिंदे के परिवार को 10 लाख रुपये मुआवजा देगी. साथ ही उनके छोटे भाई को सरकारी नौकरी भी दी जाएगी.

Related Articles