नए साल के जश्न मे बाज़ार हुआ गुलज़ार

त्योहार और सहालग का सीजन खत्म होने के बाद भी बाज़ार की रौनक बरकरार है, कोविड-19 संक्रमण कम होने के साथ रफ्तार पकडने लगा है।

लखनऊ: त्योहार और सहालग का सीजन खत्म होने के बाद भी बाज़ार की रौनक बरकरार है, कोविड-19 संक्रमण कम होने के साथ बाज़ार रफ्तार पकड़ने लगा है। कपड़ा, रेस्टोरेंट और मिठाई शॉप समेत कई जगहों पर लगातार भीड़ बढ रही है, इस दौरान दुकानदार से लेकर कस्टमर कोविड-19 की गाइड लाइंस का पालन कर रहे हैं। पिछले दिनों की तुलना में करीब 70 फीसदी तक बाजार मे रोनक आ गई है।

कारोबारियों का कहना आने वाले दिनों मे स्थिति और सुधरेगी। इसमें सबसे ज्यादा फायदा पर्यटन इंडसस्ट्री के बढ़ने से होगा। लखनऊ व्यापार मंडल के वरिष्ठ महामंत्री और कपड़ा कारोबारी अमरनाथ मिश्रा के अनुसार अब तक सहालग की काम बढ गया है. स्थिति यह है कि लुधयाना बाहर से माल मंगलवार जा रहा है। पहले कस्टमर कोरोना के डर से भी नहीं निकल रहे थे. वही अब डर कम हुआ है।

बाज़ार में करीब 50 फीसदी तक बढ़ा कारोबार 

प्राइवेट सेक्टर की स्थिति मॆ आए सुधार का भी असर दिख रहा है। सेल और डिस्काउंट को असर भी बहुत तगड़ा है, सेल से भी कस्टमर और बढने लगे है. कई माल मे अच्छे-अच्छे ब्रैंड 40 फिसदी तक छूट दे रहे हैं। इसका फायदा भी हो रहा हैं, स्थिती यह है कि पिछले दिनों की तुलना में करीब 50 फीसदी तक कारोबार बढ़ गया हैं. सहारागंज माल में और सकारात्मक माहौल बनने की उम्मीद हैं।

पर्यटकों से बढ़ेगा कारोबार टूर एंड ट्रेवेल का काम करने वाले उमेश बताते हैं कि नौ महीने बाद लोग अब घूमने की प्लानिंग कर रहे हैं. किसी भी शहर में पयर्टकों के आने से लोकल कारोबार बढ़ता है।  इसमें होटल से लेकर ट्रैवल का काम शामिल हैं. पहले जो बिजनेस 35-40 पर्सेट ही था, बही अब बढकर 70 पर्सेट तक पहुंच गया हैं, क्रिसमस और न्यू ईयर तक इसमे और बढ़ोतरी होने की संभावना है।  चिकन करोबारी कृष्णा पाल बलाले है कि चिकन के कपड़ो के आडर्र भी आने लगे है। फरवरी से सितंबर तक काम बहुत ज्यादा रहता है। लेकिन माल इसी समय तैयार करना होता है।

यह भी पढ़े: बांके बिहारी के प्राकट्योत्सव पर, वृंदावन सजा दुल्हन की तरह

Related Articles