Ramzan के आखिरी जुम्मे और Eid al-Fitr पर सामूहिक नमाज नहीं

जमात ने कहा है कि कोरोना की दूसरी लहर के चलते देश के अलग-अलग राज्यों में आंशिक तो कहीं पूरा लॉकडाउन लगा हुआ है। इस बीच आखिरी जुम्मा यानी अलविदा के मौके पर सामूहिक रूप से नमाज अदा ना करें।

नई दिल्ली: इस वक्त रमजान का पाक महीना चल रहा है वहीं दूसरी तरफ देश में कोरोना के बढ़ते मामलों ने सभी की मुश्किलें बढ़ा दी है। इसको देखते हुए जमात ए इस्लामी हिंद के शरिया काउंसिल ने रमजान महीने के अंतिम जुम्मे को देखते हुए दिशा निर्देश जारी किया है। जमात ने कहा है कि कोरोना की दूसरी लहर के चलते देश के अलग-अलग राज्यों में आंशिक तो कहीं पूरा लॉकडाउन लगा हुआ है। इस बीच आखिरी जुम्मा यानी अलविदा के मौके पर सामूहिक रूप से नमाज अदा ना करें।

शरिया काउंसिल के सेक्रेटरी मौलाना रज़ियुल इस्लाम नदवी ने कहा कि रमजान का आखरी जुम्मा ( शुक्रवार ) बाकी जुमे की तरह ही होगा यह फैसला मौजूदा हालात को देखते हुए लिया गया है। मस्जिदों में भी सरकारी नियमों का पालन किया जाना चाहिए उन्होंने कहा कि जहां कहीं भी स्थानीय अधिकारियों द्वारा अनुमति मिल सके वहां नमाज पढ़े। लेकिन मास्क का इस्तेमाल जरूर करें साथ ही आपस में दूरी बनाए रखें। जहां अनुमति ना मिले वहां घर में ही नमाज़ पढ़े और नियमों का पालन करें।

Ramadan 2021: रमजान के आखिरी जुम्मे, Eid al-Fitr पर सामूहिक नमाज नहीं, ये हैं दिशानिर्देश

देश के मुसलमानों को यह भी सलाह दी गई है कि वह ईद को लेकर बाजार में भीड़ से बचें काउंसिल ने कहा कि ईद के दिन नए पुराने साफ कपड़े पहने जो कुछ भी उनके पास हो उसे इस्तेमाल करें और अल्लाह का शुक्र अदा करें। यह वक्त बिल्कुल भी ठीक नहीं है कि हम किसी भी तरह की भीड़ से बचे और कोई ऐसा काम ना करें जिससे यह बीमारी और ज्यादा फैले सभी को इस बात का खास ध्यान रखना चाहिए।

यह भी पढ़े: Corona Update: देश में COVID-19 के 4,12,262 नए केस, तीसरी लहर की चेतावनी, लद्दाख में कोरोना की Entry

Related Articles