मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने Ramadan के आखिरी जुमा के लिए जारी की एडवाइजरी

रमजान के इस महीने के आखिरी शुक्रवार को देखते हुए एडवाइजरी भी जारी की गई है।उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में इस्लामिक सेंटर ऑफ इंडिया ने सभी मुसलमानों को अपने घरों में अलविदा की नमाज पढ़ने की अपील की है

लखनऊ: इस वक्त रमजान का पाक महीना चल रहा है और साथ ही देश में बढ़ते कोरोना मामले भी तेजी से बढ़ रहे हैं। ऐसे में सरकार ने लगभग सभी चीजों पर पाबंदी लगा रखी है, और रमजान के इस महीने के आखिरी शुक्रवार को देखते हुए एडवाइजरी भी जारी की गई है। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में इस्लामिक सेंटर ऑफ इंडिया ने सभी मुसलमानों को अपने घरों में अलविदा की नमाज पढ़ने की अपील की है।

आपको बता दें कि रमजान के पाक महीने के आखिरी शुक्रवार को अलविदा जुमा कहा जाता है। जिसे सभी मुसलमान खुशी के साथ अदा करते है। और ईद के करीब आने की खुशी मैं लोग ईद की तैयारियों में लग जाते हैं।जिसको देखते हुए इस्लामिक सेंटर ऑफ इंडिया ने कोरोना को देखते हुए एडवाइजरी जारी करते हुए सभी मुसलमानों को अपने अपने घरों में अलविदा जुमे की नमाज को अदा करने की अपील की है।
Maulana Khalid Rasheed Firangi Mahali News in Hindi, Maulana Khalid Rasheed  Firangi Mahali की लेटेस्ट न्यूज़, photos, videos | Zee News Hindi

इस्लामिक सेंटर के अध्यक्ष और लखनऊ ईदगाह के प्रमुख सुन्नी धर्मगुरु मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने कहा है कि अलविदा जुम्मा के नमाज के लिए कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करना बहुत जरूरी है। इसके लिए उन्होंने वीडियो संदेश जारी किया है साथ ही उन्होंने कहा कि सभी को घर पर 4 या उससे ज्यादा लोगों के साथ एक समूह ( जमात ) बनाकर अलविदा जुमा की नमाज अदा करनी चाहिए मौलाना ने कहा कि नमाज में भी मांस का उपयोग करें और एक दूसरे के घर जाने से बचे।

यह भी पढ़े: Mother’s Day 2021: जानें किसकी याद में मनाया जाता है ‘मदर्स डे’? माताओं को दिए जाते हैं Gift

Related Articles