बजट को लेकर मायावती ने मोदी सरकार पर लगाये गंभीर आरोप

0

लखनऊ। आज मोदी सरकार ने 2018 का बजट पेश कर दिया। इस बजट के आते ही इसपर चर्चा शुरू हो गयी। जहां बीजेपी इस बजट को ऐतिहासिक बता रही है वहीँ विपक्ष इसपर हमला बोल रही है। इसी कड़ी में बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने बजट को छलावा करार दिया है। साथ ही कहा कि ये बजट गरीब विरोधी और धन्नासेठ समथक है।

मायावती ने बजट पर हमला बोलते हुए कहा कि पीएम मोदी अपने वादे से मुकर गए। उन्हें जवाब देना होगा कि जनता से किये गए वादे कब तक पूरे करेंगे। अगर ऐसा नहीं है तो उन्हें वादाखिलाफी के लिए देश से माफी मांगनी चाहिए। मायावती ने बजट पर जारी अपने बयान में कहा कि एक जिम्मेदार सरकार की तरह बीजेपी सरकार को लेखा-जोखा भी जनता को बताना चाहिए। जो अब तक नहीं किया गया है। केवल हवा-हवाई बयानबाजी ही की गई है।

मायावती ने कहा कि करोड़ों शिक्षित बेरोजगार बेहद मजबूरी में पहले से ही पकड़ो और चाय बेच रहे हैं। ये उनकी कौशलता के हिसाब से बिलकुल भी सही नहीं है। उन्होंने कहा कि असल में मोदी सरकार की अब तक जो प्राथमिकताएं थीं, वह गरीब, मजदूर, किसानों के हितों को साधने वाली कतई नहीं रही हैं। यही कारण है कि विकास के जो दावे सरकार कर रही है, उसका थोड़ा भी लाभ इन वर्गों को नहीं मिल पाया है। अमीरों और गरीबों के बीच खाई बढ़ती जा रही है।

वहीँ अखिलेश यादव ने इस बजट विनाशकारी बजट बताया। अखिलेश यादव ने आम बजट आने के बाद ट्टीट कर लिखा कि गरीब-किसान-मजदूर को निराशा; बेरोजगार युवाओं को हताशा; कारोबारियों, महिलाओं, नौकरीपेशा और आम लोगों के मुँह पर तमाचा। ये जनता की परेशानियों की अनदेखी करने वाली अहंकारी सरकार का विनाशकारी बजट है। आख़री बजट में भी भाजपा ने दिखा दिया कि वो केवल अमीरों की हिमायती है। अब जनता जवाब देगी।

loading...
शेयर करें