राज्यसभा चुनाव के बाद मायावती ने अखिलेश को दी सलाह, तो हट गया राजा भैया वाला ट्वीट

0

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश में राज्यसभा सीटों के लिए हुए चुनाव ने 25 साल बाद साथ आए समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) के गठबंधन को तगड़ा झटका दिया है। इस झटके के बाद बसपा मुखिया मायावती ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को सलाह तक दे डाली है। इसके अलावा उन्होंने बाजपा पर भी सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि इस चुनाव में भाजपा ने धनबल का प्रयोग किया है।

राज्यसभा चुनाव में अपने इकलौते प्रत्याशी की हार के बाद शनिवार को मीडिया के सामने आई बीएसपी प्रमुख मायावती ने बीजेपी पर जमकर वार किया। मायावती ने कहा कि बीजेपी ने इन चुनावों में सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग किया है। उन्होंने कहा कि बीजेपी ने धनबल का इस्तेमाल किया है। बीजेपी ने इन चुनावों को निर्विरोध ना करवाने के लिए अपना एक प्रत्याशी उतारा ताकि विधायकों की खरीद फरोख्त और तोड़पोड़ की संभावना बढ़ जाए।

मायावती ने कुंडा के निर्दलीय विधायक रघुराज प्रताप सिंह (राजा भैया) की ओर इशारा करते हुए अखिलेश यादव को सलाह दी। उन्होंने कहा कि यदि अखिलेश यादव कुंडा के गुंडे के मकड़जाल में ना फंसते तो शायद हम यह सीट बचा पाते। मायावती ने कहा कि कल अखिलेश थोड़ी चूक कर गए। यदि मैं इनकी जगह होती तो पहले सपा के उम्मीदवार को जितवाने की कोशिश करती। मुझे विश्वास है कि अखिलेश यादव धीरे-धीरे तजुर्बेकार हो जाएंगे।

मायावती ने कहा कि जिस खास मकसद से बीजेपी और संघ के लोगों ने बीएसपी के प्रत्याशी को हरवाया है उससे यह गठबंधन टूट जाएगा। लेकिन ऐसा नहीं होगा। कल के नतीजों से गठबंधन पर कोई असर नहीं पड़ेगा। बीजेपी का षड़यंत्र महंगा पड़ने वाला है। लोकसभा आम चुनाव में सपा-बसपा के लोग पूरी ताकत झोंक देंगे।

दरअसल, बीजेपी ने सपा-बसपा के गठबंधन को मात दे दिया। यूपी की 10 में 9 सीटों पर भाजपा ने जीत दर्ज कर ली। जबकि समाजवादी पार्टी की जया बच्चन को 38 वोट मिले हैं। वहीं बसपा को अपनी सीट गवानी पड़ी। इस चुनाव में सपा विधायक नितिन अग्रवाल और बसपा विधायक अनिल सिंह ने भाजपा के लिए क्रॉस वोटिंग की।

वहीं, राजा भैया ने इस चुनाव में बसपा को वोट देने से साफ़ इनकार कर दिया था। हालांकि उन्होंने सपा का पक्ष लिया था। राजा भैया के समाजवादी पार्टी को समर्थन देने के ऐलान के बाद अखिलेश यादव ने ट्वीट कर उन्हें धन्यवाद दिया था। लेकिन बसपा प्रत्याशी के हारने के बाद अखिलेश यादव ने यह ट्वीट डिलीट कर दिया है।

loading...
शेयर करें