तो क्या गेस्ट हाउस कांड भूल अब मुलायम सिंह के लिए प्रचार भी करेंगी मायावती

0

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव नजदीक आते ही बड़े-बड़े राजनितिक बदलाव देखने को मिल रहे है. ऐसे में मायावती का बड़ा फैसला सामने आया है मायावती का कहना है कि अब मायावती लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगी यही नहीं मायावती अपने कट्टर विरोधी मुलायम सिंह यादव के लिए मैनपुरी में रैली करने का मन बनाया है. अखिलेश यादव और चौधरी अजीत सिंह के साथ वे साझा चुनावी सभायें भी करेंगी.

कुछ दिन पहले इस बात की बड़ी चर्चा था कि बहिन जी यानी मायावती भी इस बार चुनाव लड़ेंगी. समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन के बाद तो ये तय माना जा रहा था. मायावती के लिए अंबेडकरनगर से लेकर बिजनौर तक के जातीय आँकड़े जुटाए गए थे. लेकिन हमें ये जानकारी मिली है कि वे इस बार भी चुनाव नहीं लड़ेंगी. बीएसपी के टॉप नेताओं की बैठक में पार्टी सुप्रीमो ने अपना ये फ़ैसला भी सुना दिया है.

मायावती चुनाव तो नहीं लड़ेंगी लेकिन देश भर में धुँआधार प्रचार करेंगी. कश्मीर से लेकर कर्नाटक तक. अकेले यूपी में ही मायावती की तैयारी 39 चुनावी सभायें करने की है. बहिन जी कब, कहां और कैसे चुनाव प्रचार करेंगी. इसका पूरा ब्लू प्रिंट एबीपी न्यूज़ के पास है. अब तक की जानकारी के मुताबिक़ वे प्रचार की शुरूआत नागपुर से करेंगी. बाबा साहेब अंबेडकर ने यहीं बौद्ध धर्म की दीक्षा ली थी.

सात अप्रैल को देवबंद से मायावती यूपी में चुनाव प्रचार का श्रीगणेश करेंगी. उस दिन अखिलेश यादव और चौधरी अजीत सिंह के साथ मायावती मंच पर पहली बार नज़र आयेंगी. अगली सभा मेरठ में 8 अप्रैल को होगी. मायावती ने तो मुलायम सिंह यादव के लिए मैनपुरी जाकर वोट माँगने का फ़ैसला भी किया है. 19 अप्रैल को वहां समाजवादी पार्टी और बीएसपी की साझा रैली है.

लेकिन मायावती के इस रुख से साफ़ हो गया कि राजनीती में लोग सब कुछ भुला सकते है जैसे मायावती गेस्ट हाउस कांड और इतने सालो की दुश्मनी भूल अब मुलायम के लिए प्रचार करने पर उतर आई अब देखना यह है कि मायावती की रैली सपा को कितना फायदा दिला सकती है..

loading...
शेयर करें