RSS-BJP पर मायावती का वार, बोलीं- ‘मुंह में राम और बगल में छुरी’ जैसा लगता है

बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा RSS का कल का बयान न केवल अविश्वसनीय है, बल्कि 'मुंह में राम और बगल में छुरी' जैसा लगता है

लखनऊ: RSS के प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) द्वारा दिए गए बयान पर राजनीतिक बयानबाजी जारी है। इस पर बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती (Mayawati)  ने बोला RSS प्रमुख मोहन भागवत के कल एक कार्यक्रम में भारत में सभी धर्मों के लोगों का डीएनए एक होने की बात किसी के भी गले के नीचे आसानी से नहीं उतरने वाली है। RSS और BSP एंड कंपनी के लोगों तथा इनकी सरकारों की कथनी व करनी में अंतर सभी देख रहे हैं।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने बोला आरएसएस का कल का बयान न केवल अविश्वसनीय है, बल्कि ‘मुंह में राम और बगल में छुरी’ जैसा लगता है।

मायावती ने कहा आरएसएस के सहयोग और समर्थन के बिना बीजेपी का अस्तित्व कुछ भी नहीं है। फिर भी RSS अपनी कही गई बातों को बीजेपी और इनकी सरकारों से लागू क्यों नहीं करवा पा रही है? उत्तर प्रदेश की वर्तमान भाजपा सरकार द्वारा अधिकांश जातिगत, धार्मिक व राजनीतिक द्वेष की भावना से अभी तक जिन मामलों में जिनकी सं​पत्ति जब्त व ध्वस्त की गई है, उनमें ज्यादातर मुस्लिम लोग प्रभावित हुए हैं, ऐसा मुस्लिम समाज व आम लोगों का मानना है।

1995 में इस्तीफा

मायावती ने कहा कि केंद्र और उत्तर प्रदेश सहित देश के जिन राज्यों में भाजपा की सरकारें चल रही हैं, वे भारतीय संविधान की सही मानवतावादी मंशा के मुताबिक चलने की बजाए ज़्यादातरआरएसएस के संकीर्ण एजेंडे पर चल रही हैं, ये आम चर्चा है। अगर बसपा ने सोचा होता कि भाजपा संवैधानिक रूप से और लोगों के पक्ष में काम कर सकती है, तो बसपा ने उनके बड़े समर्थन को अस्वीकार नहीं किया होता और 1995 में इस्तीफा दे दिया होता

यह भी पढ़ेRajnath Singh का बड़ा ऐलान, Lucknow का नाम भारत के दो-तीन टॉप शहरों में होगा

(Puridunia हिन्दीअंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles