कमलनाथ सरकार के आश्वासन के बाद मेधा पाटकर ने ख़त्म की भूख हड़ताल

नर्मदा बचाओ आंदोलन की प्रमुख नेता मेधा पाटकर ने अब कांग्रेस की सरकार मुख्यमंत्री कमलनाथ के आश्वासन के बाद मंगलवार को अब अपने भूख हड़ताल को निरस्त करने की बात कर दी है और भूख हड़ताल को खत्म कर दिया है.

 

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री कमलनाथ के दूध एवं पूर्व मुख्य सचिव श्री शरद चंद्र बोहरा से बातचीत करने के बाद यह फैसला लिया गया बता दें कि मेधा पाटकर पिछले 9 दिनों से अनशन पर थी और उनकी मांग यह है कि गुजरात में सरदार सरोवर बांध के गेट खोले जाएं क्योंकि मध्यप्रदेश के बड़वानी सहित कई जिलों के गांवों में पानी भर चुका है जिसके चलते हुए बांध से हुए विस्थापितों के पुनर्वास की मांग भी कर रही है.

उनकी इस मांग को लेकर उन्होंने भूख हड़ताल शुरू करी थी जिसके बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ के दूत के तौर पर अनशन स्थल पर सोमवार देर रात पहुंचे शरतचंद्र बोहरा ने मेधा पाटकर की भूख हड़ताल खत्म करने की कवायद को शुरू करें जिसके बाद मंगलवार को एक खबर सामने आई कि उन्होंने अपनी भूख हड़ताल समाप्त कर ली है जिसके बाद उन्हें नींबू पानी पिलाकर उनका छह अन्य लोगों के साथ अनशन समाप्त करवाया गया है.

वह इसके अलावा बिहार ने बांध विस्थापितों पर मुख्यमंत्री कमलनाथ की चिंता से मेधा पाटकर को अवगत कराया और इसके साथ ही उन्होंने मध्य प्रदेश सरकार द्वारा बांध के बैंक वाटर क्षेत्र में पानी का स्तर कम करने के लिए किए जा रहे प्रयासों को लेकर भी जानकारी दी है.

इसके अलावा मेधा पाटकर के नेतृत्व में एनबीए नेता और 9 सितंबर को नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के अधिकारियों के साथ विस्तार में विचार-विमर्श करेंगे और बताया जा रहा है कि यदि इस बैठक में बाढ़ प्रभावितों की शिकायतों का समाधान नहीं निकला तो एनबीए फिर आगे विरोध प्रदर्शन करने का आवाहन भी करेगी.

Related Articles