तालिबान के नेता और चीन से विदेश मंत्री से हुई मुलाकात, बीजिंग को कराया आश्वस्त

बीजिंग: मुल्ला अब्दुल गनी बरादर की अगुवाई में तालिबान (Taliban) का एक प्रतिनिधिमंडल आज बुधवार को अचानक चीन पहुंच गया। चीनी विदेश मंत्री वांग यी (Wang Yi) के साथ तालिबान के नेता ने बातचीत की। इस दौरान तालिबान (Taliban) ने बीजिंग को भरोसेमंद दोस्त बताते हुए आश्वस्त कराया कि वह किसी भी समूह को भी अफगानिस्तान के क्षेत्र का इस्तेमाल करने की इजाजत नहीं देगा।

अफगानिस्तान से अमेरिका और नाटो के बलों की वापसी के बीच तालिबान और चीन के बीच यह पहली बैठक है। सरकारी बलों के कब्जे वाले क्षेत्र पर तालिबान ने नियंत्रण कर लिया है। इस कारण चीन चिंतित हो रहा था कि उसके अस्थिर शिनजियांग प्रांत के उईगर आतंकवादी समूह, ईस्ट तुर्कीस्तान इस्लामिक मूवमेंट अफगान सीमा से घुसपैठ कर सकते हैं।

विदेश मंत्रालय ने मीडिया को बताया

इस मुलाकात के बाद चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजिआन ने मीडिया को स्पष्ट तौर पर बताया मंत्रालय ने वांग की बरादर और उनके प्रतिनिधिमंडल के साथ मुलाकात की तस्वीरों को सोशल मीडिया पर साझा भी किया है।

पाकिस्तान और वांग से मुलाकात

इस मुलाकात से पहले, बीते 25 जुलाई को पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने चेंगदू शहर में वांग से मुलाकात की थी और दोनों देशों ने ऐलान किया था कि अफगानिस्तान में आतंकवादी बलों को खदेड़ने के लिए पाकिस्तान और चीन की संयुक्त कार्रवाई शुरू करने की योजना है।

 

Related Articles