महबूबा ने दी मोदी सरकार को धमकी, पीडीपी टूटी तो कई यासीन और सलाउद्दीन पैदा होंगे

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर में बीजेपी से गठबंधन टूटने के बाद राज्य की सत्ता से बाहर हुई पीडीपी (पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी) के सामने पार्टी टूटने का संकट खड़ा हो गया है। एक के बाद एक पार्टी कई विधायक बागी तेवर दिखा रहे हैं। वहीं कई बीजेपी से संपर्क में भी हैं। इस बीच राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी मुखिया महबूबा मुफ्ती ने कहा कि अगर मोदी सरकार ने पीडीपी को तोड़ने की कोशिश की तो राज्य के हालात खराब हो जाएंगे।

तो कई सलाउद्दीन और यासीन पैदा होंगे- महबूबा

महबूबा ने आगे बड़ी धमकी देते हुए कहा कि अगर केंद्र सरकार पार्टी को तोड़ने की कोशिश की कई सलाहुद्दीन और यासीन मलिक पैदा होंगे। अपनी पार्टी में हो रही टूट के लेकर उन्होंने कहा कि अगर ऐसा होता है तो राज्य के हालात 1987 जैसे बदतर हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि दिल्ली में बैठे लोग उनकी पार्टी को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं।

कौन हैं सलाउद्दीन और यासीन?

आपको बता दें कि महबूबा ने यासीन मलिक कश्मीर का अलगाववादी नेता है। जोकि भारत से कश्मीर की आजादी की मांग करता रहता है। वहीं सैयद सलाहुद्दीन आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन का सरगना है। जो फिलहाल पाकिस्तान में रह रहा है। उसे कश्मीर में आतंकवाद फैलाने के लिए जाना जाता है। अमेरिका ने भी सलाहुद्दीन को ग्लोबल आतंकी घोषित किया है।

पीडीपी के अंदर बढ़ रही आपसी रार

दरअसल, पिछले दिनों भाजपा ने महबूबा सरकार से समर्थन वापस ले लिया था। इसके बाद पीडीपी में पांच विधायक बागी हो गए। 1 जुलाई को पीडीपी के चार विधायकों ने पार्टी नेतृत्व पर सवाल उठाए थे। इनमें विधायक आबिद हुसैन अंसारी, उनके भतीजे इमरान हुसैन अंसारी, तंगमार्ग से विधायक मोहम्मद अब्बास वानी और पट्‌टन से विधायक इमरान अंसारी थे। वहीं पीडीपी के पांचवे बागी बारामूला के विधायक जावेद हसन बेग ने पार्टी को ‘परिवार डेमोक्रेटिक पार्टी’ बताया था। बेग ने कहा था कि पार्टी अपने विधायकों का सम्मान नहीं कर रही है और उसे हारने वाले लोग चला रहे हैं।

Related Articles