जेल से रिहा मॉब लिंचिंग के दोषियों का केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने मिठाई खिला किया स्वागत, विपक्ष ने की आलोचना

0

रांची: मोदी सरकार में नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री जयंत सिन्हा इन दिनों विवादों में आ गये हैं। दरअसल, सिन्हा ने झारखंड के रामगढ़ में जमानत पर छूटे मॉब लिंचिंग के दोषियों को माला पहनाकर मिठाई खिलायी। जिसकी फोटो सोशल मीडिया पर सामने आ गई। विपक्ष ने इसकी आलोचना करते हुए सिन्हा पर सवालों की बौछार कर दी। जिसकी सफाई देते हुई केंद्रीय मंत्री ने कहा, ”वे लोग मेरे घर आए थे और जनता का प्रतिनिधि होने के नाते मैनें उनसे मुलाकात की। कानून और कोर्ट अपना काम कर रहा है। जो भी दोषी होगा उसे जरूर सजा मिलेगी।”

ये है पूरा मामला

दरअसल, गोमांस बेचने के शक में पिछले साल 29 मार्च को रामगढ़ में अलीमुद्दीन अंसारी की हत्या कर दी गई थी। इस मामले पर काफी विवाद भी हुआ और फास्ट ट्रैक कोर्ट ने भाजपा नेता समेत 11 दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई थी। हालांकि 29 जून को हाईकोर्ट ने 8 दोषियों की सजा सस्पेंड कर जेल से बरी कर दिया था। जिसके बाद ये लोग मंत्री से मिलने उनके हजारीबाग स्थित आवास पहुंचे थे। जमानत पर छूटने वालों में नित्यानंद महतो भी शामिल हैं, जोकि भाजपा के रामगढ़ जिला मीडिया प्रभारी रह चुके हैं।

विपक्ष ने उठाए सवाल, कहा- ये कैसे जनप्रतिनिधि

विपक्षी पार्टियों ने जयंत सिन्हा के इस बर्ताव को आड़े हाथों लेते हुए उनकी व मोदी सरकार की जमकर आलोचना की। झारखंड में विपक्ष के नेता हेमंत सोरेन ने कहा कि हार्वर्ड से पढ़े केंद्रीय मंत्री लिंचिंग के दोषियों का कर रहे हैं, ये बेहद निंदनीय और शंर्मनाक है। वहीं माकपा नेता सीताराम येचुरी ने कहा कि सिन्हा लिंचिंग के दोषियों के साथ खड़े हैं। मोदी सरकार हिंदुत्व को बढ़ावा दे रही है, जिससे मॉब लिंचिंग जैसी घटनाएं बढ़ने लगी हैं। वहीं कांग्रेस ने कहा कि ऐसे लोगों का समर्थन निंदनीय है। यही भाजपा का असली रंग है।

loading...
शेयर करें