लखीमपुर कांड में मंत्री पुत्र की बढ़ी मुश्किलें, SIT ने बढ़ाई ये धाराएं

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री के बेटे आशीष मिश्रा की मुश्किलें अब बढ़ गई हैं

लखीमपुर खीरी तिकुनिया कांड में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे व मुख्य आरोपी आशीष मिश्र मोनू समेत सभी 13 आरोपियों पर दुर्घटना की धाराएं हटाकर हत्या की कोशिश व अंगभंग करने की धाराएं बढ़ाई गई हैं. मंगलवार को सीजेएम कोर्ट में दाखिल हुए सभी 13 आरोपियों पर अदालत ने हत्या की कोशिश की, अंगभंग, शस्त्र के दुरुपयोग व शस्त्र अधिनियम की धारा बढ़ोतरी की है.

हत्या की सोची समझी साजिश थी

तिकुनिया कांड के 70 दिन बाद मामले की जांच कर रही टीम ने माना कि तीन अक्टूबर को हुआ खूनी संघर्ष दुर्घटना नहीं थी, बल्कि यह हत्या की सोची समझी साजिश थी. 70 दिन बाद सोमवार को जांच टीम की तरफ से सीजेएम अदालत में पेश हुए मुख्य विवेचक विद्याराम दिवाकर ने कोर्ट में अर्जी दाखिल कर मुख्य आरोपी आशीष मिश्र समेत सभी 13 आरोपियों पर से दुर्घटना की धारा हटाने व हत्या की कोशिश समेत अन्य धाराएं बढ़ाने की अपील की थी, जिस पर कोर्ट ने सभी 13 आरोपियों को मंगलवार को कोर्ट में पेश होने का आदेश दिया था. मंगलवार दोपहर को कोर्ट में सभी आरोपियों के पेश होने के बाद सुनवाई के दौरान अदालत ने सभी 13 आरोपियों पर हत्या की कोशिश, शस्त्र के दुरुपयोग व शस्र अधिनियम की धारा को बढ़ाया है.

विवेचक की अर्जी पर अदालत ने बढ़ाईं गंभीर धाराएं

मंगलवार को मामले में सुनवाई करते हुए सीजेएम चिंताराम ने जांच टीम को सभी आरोपियों के वारंट से दुर्घटना से जुड़ी आईपीसी की धाराएं को हटाकर हत्या की कोशिश, अंगभंग, शस्त्र दुरुपयोग व शस्त्र अधिनियम की धारा को बढ़ाने की अनुमति प्रदान की.

यह भी पढ़ें- ‘खलनायक’ बना UP पुलिस का नायक, जानें कैसे

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

 

Related Articles