LIC में जल्द फॉरेन डायरेक्ट इनवेस्टमेंट ला सकती है मोदी सरकार

नई दिल्ली : इकनोमिक टाइम्स के मुताबिक सरकार की योजना जल्द लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन  में फॉरेन डायरेक्ट इनवेस्टमेंट की अनुमति देने की है। इससे सिंगल फॉरेन इनवेस्टर को कंपनी में एक बड़ी हिस्सेदारी खरीदने का मौका मिल सकता है। इस कड़ी में आपकी जानकारी के लिए बता दें की  LIC इस फाइनेंशियल ईयर में कंपनी के आईपीओ भी लाने की तैयारी में है।

इस फैसले से LIC की लिस्टिंग पर वैल्यू 261 अरब डॉलर होने का अनुमान है।

इस कड़ी में जानकारों के मुताबिक एलआईसी में एफडीआई की अनुमति मिलने से पेंशन फंड्स और इंश्योरेंस कंपनियों जैसे बड़े इनवेस्टर्स कंपनी के पब्लिक ऑफर में हिस्सा ले सकेंगे। इस कड़ी में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की ओर से तय की गई एफडीआई की परिभाषा के तहत विदेशी इनवेस्टर या एंटिटी की ओर से दस प्रतिशत से अधिक हिस्सेदारी खरीदने को एफडीआई माना जाता है।

यह भी पढ़ें :‘सालार’ का नया पोस्टर: जगपति बाबू, मास एक्शन एडवेंचर में ‘राजमनार’ के रूप में दिखाई देंगे।

मौजूदा समय में एलआईसी में सरकार की शत प्रतिशत हिस्सेदारी है। इस फाइनेंशियल ईयर के लिए सरकार के डिसइनवेस्टमेंट के टारगेट को पूरा करन के लिहाज से कंपनी में हिस्सेदारी की बिक्री अहम् है। इस कड़ी में जानकारों के मुताबिक देश  की इंश्योरेंस कंपनियों में चौहत्तर प्रतिशत तक एफडीआई की अनुमति है। हालांकि, यह नियम एलआईसी पर लागू नहीं होता क्योंकि यह संसद के एक्ट के तहत बनाई गई एक विशेष एंटिटी है।

यह भी पढ़ें : केंद्रीय मंत्री पहुंचे Bombay High Court, पुलिस बोली- गिरफ्तारी की प्रक्रिया जारी

Related Articles