मोदी ने सदन के माध्यम से किसानों को दिया निमंत्रण, टिकैत ने दिया जवाब

राज्य सभा से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों से अपील किया है कि वे आंदोलन को वापस ले और मिलकर चर्चा करेंगे।

नई दिल्ली: नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों का विरोध जारी है। सिंघु बार्डर पर प्रदर्शन का आज 75वां  दिन है। वही वहीं, दिल्ली-यूपी के गाजीपुर बॉर्डर पर आज आंदोलन का 73वां दिन है। किसान संगठनों का जिद है कि नए कृषि कानून वापस हो न कि उसमें कोई बदलाव हो। राज्य सभा से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों से अपील किया है कि वे आंदोलन को वापस ले और मिलकर चर्चा करेंगे।

राज्यसभा में पीएम मोदी की अपील के बाद भारतीय किसान यूनियन ( BKU ) के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा ‘सरकार तीनों कृषि कानूनों को वापस ले और एमएसपी पर कानून बनाए।’ पीएम मोदी के आंदोलनजीवी वाले बयान पर टिकैत ने कहा- हां, इस देश में एक नई जमात पैदा हुई, और वह जमात किसानों की है।

मोदी ने दिया न्यौता

नरेंद्र मोदी ने किसानों से बातचीत करने के लिए न्यौता देते हुए कहा पीएम मोदी ने किसानों को बातचीत का न्योता देते हुए कहा, ‘हमारे कृषि मंत्री लगातार किसानों से बातचीत कर रहे हैं। अभी तक कोई तनाव पैदा नहीं हुआ है। एक-दूसरे की बात को समझने का, समझाने का प्रयास चल रहा है।

सिंघु बार्डर पर प्रदर्शन

हम आंदोलन करने वालों से प्रार्थना करते हैं कि आंदोलन करना आपका हक है। लेकिन इस प्रकार से बुजुर्ग लोग वहां बैठे हैं, ये ठीक नहीं है आप उनको ले जाइए। आप आंदोलन को खत्‍म कीजिए। आगे बढ़ने के लिए मिल-बैठ करके चर्चा करेंगे। मैं सदन के माध्‍यम से भी निमंत्रण देता हूं।

यह भी पढ़ें:Kisan Andolan: ‘1984 के दंगे में सबसे अधिक आंसू पंजाब के बहे’: PM मोदी

Related Articles

Back to top button