इमरजेंसी की 43वीं बरसी पर गरजे मोदी, कहा- कांग्रेस ने दलितों-मुसलमानों को डर दिखाकर किया राज

मुंबई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को इमरजेंसी की 43वीं बरसी पर मुंबई में आयोजित एक कार्यक्रम के संबोधन सभा में कांग्रेस पर जमकर तीखा हमला किया। उन्होंने हम आज के दिन को काला दिवस के रूप में इसलिए मानते है कि हमारी आने वाली पीड़ी जागरूक हो, हम लोकतंत्र के प्रति हमारी प्रतिबध्दता को सज्ज रखने के इस दिन को स्मरण करते है।

मोदी

आपको बता दे कि मुंबई में आयोजित कार्यक्रम का उद्देश्य उन लोगों के प्रति आभार प्रकट करना है, जिन्होंने 1975 में आपातकाल के खिलाफ लड़ाई लड़ी और लोकतांत्रिक मूल्यों के संरक्षित करने के बारे में सोचा। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और प्रदेश बीजेपी प्रमुख रावसाहेब दानवे भी कार्यक्रम में शरीक हुए है।

कार्यक्रम में मोदी ने आपातकाल के दौर के दमनकारी आदेशों और विवादास्पद फैसलों पर वार करते हुए प्रधानमंत्री ने देश के लोकतंत्र को मजबूत बनाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा, ‘लिखना, बहस करना, सवाल करना हमारे लोकतंत्र के अहम पहलू हैं। कोई भी ताकत हमारे संविधान के बुनियादी सिद्धांतों को कुचल नहीं सकती है।

पीएम मोदी ने कहा, मैं उन सभी लोगों को सैल्यूट (नमन) करता हूं, जिन्होंने 43 साल पहले लागू आपातकाल का लगातार विरोध किया। इसके खिलाफ लड़ी उनकी लड़ाई की वजह से देश और जनता के लोकतांत्रिक अधिकारों की रक्षा हो सकी।

पीएम बोले कि जब-जब कांग्रेस पार्टी को और खासकर एक परिवार को अपनी कुर्सी जाने का संकट महसूस हुआ है तो उन्होंने चिल्लाना शुरू किया है कि देश संकट से गुजर रहा है, देश में भय का माहौल है और देश तबाह हो जाने वाला है और इसे सिर्फ हम ही बचा सकते हैं।

इससे पहले नरेन्द्रे मोदी ने सोमवार को अपने ट्विटर के माध्यम से भी कांग्रेस पर हमला बोला था..

पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, मैं उन सभी लोगों को सैल्यूट (नमन) करता हूं, जिन्होंने 43 साल पहले लागू आपातकाल का लगातार विरोध किया। इसके खिलाफ लड़ी उनकी लड़ाई की वजह से देश और जनता के लोकतांत्रिक अधिकारों की रक्षा हो सकी।

Related Articles