चुनाव प्रचार के लिए लगे थे मोदी-शाह के कटआउट, किसानों ने पक्षियों को भगाने के लिए खेतों में लगाया

बेंगलुरु: देश के ग्रामीण इलाकों में आपने अक्सर खेतों में मानवरुपी ढांचे को खड़ा देखा होगा। जिसे किसान मटके और लकड़ी को कपड़ा तैयार कर अपनी फसलों के बीच में खड़ा करते है। इससे जानवर खेतों में नहीं आते और फसल की सुरक्षा होती है। लेकिन डिजिटल हो रहे भारत के किसानों ने भी अब इस प्रक्रिया में बदलाव कर दिया है और अब वह देश की सेलेब्रिटीज की तस्वीरें खेतों में लगाने लगे हैं।

पीएम मोदी और शाह के खेतों में लगे कटआउट

हाल ही में एक किसान ने बॉलीवुड अभिनेत्री सनी लियोनी की तस्वीर अपने खेतों में लगाई थी। लेकिन इस बार कर्नाटक के किसान ने अभिनेत्री नहीं बल्कि राजनेताओं को चुना है। यही नहीं किसान ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के बड़े-बड़े कटआउट खेतों में रखे गये हैं।

क्या है पूरा मामला?

दरअसल, कर्नाटक में करीब 2 महीने पहले विधानसभा चुनाव हुए थे। इस दौरान कैंपेनिंग के लिए बीजेपी नेताओं ने पीएम मोदी और अमित शाह के बड़े-बड़े कटआउट लगवाए थे। लेकिन चुनाव खत्म होने के बाद इनका प्रयोग यहां के किसान खेतों में पक्षियों को भगाने के लिए कर रहे है। खासतौर पर तारिकेरे तालुक के लक्कावल्ली ‘होबली’ गांव में यह प्रयोग ज्यादा हो रहा है।

2019 चुनाव के लिए गांव में रखवाए गए थे कटआउट

लोगों ने बताया, चुनाव में मोदी की दो रैलियों ने बीजेपी के पक्ष में माहौल तैयार कर दिया था। इन रैलियों से पार्टी का पलड़ा भारी हुआ था। जिसे देखकर स्थानीय नेताओं ने जगह-जगह मोदी, अमित शाह और बीएस येदियुरप्पा के बड़े-बड़े कटआउट लगवाए थे। हालांकि चुनाव में बीजेपी को स्पष्ट बहुत नहीं मिला, लेकिन वह सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी। इसे देखते हुए पार्टी के नेताओं ने इन कटआउट को गांवों में ही संभालकर रखवा दिया। उनकी मंशा 2019 के आम चुनाव में भी इनका इस्तेमाल करने की थी।

कटआउट लगाने से हुआ फायदा

ग्रामीणों के मुताबिक, इस साल बारिश अच्छी हो रही है, और फसल की उपज भी सही हो रही है। लेकिन पक्षी इसे नुकसान पहुंचा रहे थे। ऐसे में खेतों में हर बार की तरह बिजूका (पक्षियों को डराने वाले पुतले) लगाने की तैयारी शुरू कर दी। इस बीच किसी ने सुझाया कि इन कटआउट का इस्तेमाल भी पक्षियों को भगाने के लिए किया जा सकता है। बस फिर क्या था, जिसके पास कटआउट था उन्होंने अपने खेत में लगा दिया।

जीतते तो भी नेता हमारे काम आते, ऐसे भी आ रहे

राजनेताओं के कटआउट को बिजूका के रुप में सबसे पहले अपने खेत में लगाने वाले राजेश का कहना है कि अगर कर्नाटक में बीजेपी की सरकार बनती तो वह हमारे लिए काम करती। अब नेताओं के कटआउट भी हमारी मदद ही कर रहे हैं।

गांव में नहीं लगे मोदी-शाह के कटआउट- शिवकिरन

वहीं लक्कावल्ली ग्राम पंचायत के अध्यक्ष टीएन शिवकिरन ने खेतों में पीएम कटआउट के बिजूका के रूप में इस्तेमाल किये जाने से इनकार किया। उन्होंने कहा कि गांव के किसी भी खेत में मोदी और अमित शाह का कटआउट नहीं देखा है। न ही इनका प्रयोग पक्षियों को डराने के लिए किया जा रहा है।

Related Articles