राज्यपाल के दौरे पर हुए 46 लाख से अधिक खर्च, सरकार ने मांगा ब्यौरा

भुवनेश्वर: ओडिशा के राज्यपाल गणेशी लाल के नई दिल्ली और हरियाणा यात्रा पर विवाद शुरू हो गया है। ओडिशा सरकार ने पिछले महीने हुई राज्यपाल की यात्रा पर हुए 46.18 लाख रुपए खर्च को लेकर राजभवन से जवाब मांगा है। दरअसल, ओडिशा के राज्यपाल प्रोफेसर गणेशी लाल पिछले माह अपनी यात्रा के दौरान फ्लाइट और हेलीकॉप्टर पर 46.18 लाख खर्च किया। इस दौरान 10 से 13 जून तक वह हरियाणा के सिरसा में थे।

सीएम के विभाग ने राजभवन से मांगा स्पष्टीकरण

मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के सामान्य प्रशान विभाग में उपसचिव इंदिरा बेहरा ने राज्यपाल के विशेष सचिव को पत्र लिखा है। इस पत्र लिखकर दो बिल की चर्चा की है। जिसमें से एक बिल चार्टर्ड जेट का है, जिसका इस्तेमाल दिल्ली जाने और वहां से आने के लिए किया गया था। वहीं दूसरा बिल एक हेलिकॉप्टर का है। जिसके जरिये राज्यपाल गणेश जोशी ने हरियाणा के सिरसा का सफर तय किया गया था।

यात्रा में आया 46.18 लाख का खर्च

पत्र में बेहरा ने यह कहा कि चार्टर्ड जेट का किराये पर लेने में 41 लाख 18 हजार रुपये का खर्च आया है। ‘माननीय राज्यपाल के इस्तेमाल के लिए हेलिकॉप्टर सेवा लेने और उड़ान के मंजूर कार्यक्रम में बदलाव के कारण और परिस्थितियों के बारे में कृपया सूचित किया जाए, और यह भी बताया जाए कि इस उद्देश्य के लिए सक्षम प्राधिकारी की मंजूरी ली गई कि नहीं।’

दरअसल, राज्यपाल के राज्य से बाहर दौरे से जुड़े प्रोटोकॉल पर प्रतिक्रिया देने के लिए राज्य सरकार का कोई अधिकारी मौजूद नहीं था। यहीं नहीं राजभवन से भी इस विषय पर कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली। वहीं इस मुद्दे पर बीजेपी ने सत्ताधारी बीजेडी की आलोचना की है।

बीजेपी ने की आलोचना

ओडिशा बीजेपी के उपाध्यक्ष समीर मोहंती ने कहा कि राज्यपाल प्रदेश के प्रमुख होते हैं और वह संवैधानिक पद पर होते हैं. उनपर राजनीति नहीं करना शोभा नहीं देता। मुख्यमंत्री और अन्य मंत्री भी तो अपने दौरों पर हेलीकॉप्टर और विमान का इस्तेमाल करते हैं.

वहीं बीजेडी ने कहा कि बीजेपी जबर्दस्ती इस मुद्दे का राजनीतिकरण कर रही है। बीजेडी प्रवक्ता समीर दास ने कहा कि सरकारी अधिकारी राजभवन से सफाई मांग कर अपनी ड्यूटी ही कर रहे हैं, इसमें व्यक्ति को किसी भी प्रकार की राजनीति नहीं देखनी चाहिए।

Related Articles