यात्रीगण कृपया ध्यान दें ! रेलवे पर कोहरे का दिखने लगा असर, 60 से अधिक ट्रेनें रद्द

कोहरे के चलते 60 से अधिक ट्रेनें रद्द

सर्दी बढ़ने के साथ ही रेलवे पर कोहरे का सितम शुरू हो गया है. उत्तर भारत के कई इलाकों में कोहरे का असर दिखने लगा है और इससे उत्तर रेलवे के बड़े इलाके में ट्रेनों के परिचालन पर असर पड़ रहा है. फिलहाल मुरादाबाद, दिल्ली-फिरोज़पुर और अंबाला डिविजन के करीब 100 स्टेशनों पर कोहरे का असर दिख रहा है, जिससे ट्रनों रफ़्तार भी कम हुई है. वहीं लखनऊ डिविजन पर भी कोहरे का थोड़ा-बहुत असर नजर आने लगा है. इन इलाकों में सुबह के वक्त विज़िब्लिटी 30 मीटर से कम रह गई है, जो ट्रेन चलाने के लिए पर्याप्त नहीं है. कोहरे की आशंका को देखते हुए रेलवे ने करीब 60 ट्रेनें कैंसिल कर दी हैं. ये कम मांग वाली ट्रेनें हैं और फिलहाल इन्हें फरवरी के पहले सप्ताह तक कैंसिल रखा गया है.

ट्रेनों की रफ़्तार पर ब्रेक

आशंका जताई जा रही है कि अगले एक-दो हफ़्ते में कोहरे का कोहराम और बढ़ सकता है. इससे सबसे पहले ट्रेनों की पंक्चुअलिटी पर असर पड़ेगा. फिलहाल यह पंक्चुअलिटी 92% है. यानी 92 फ़ीसदी ट्रेनें समय पर चल रही हैं. हालांकि कुछ दिन पहले तक यह आंकड़ा 95 के पार था. यानी कोहरा बढ़ने से साथ ही ट्रेनों की रफ़्तार कम होगी और देरी से चलेंगी.

रेलवे लाइन पर ट्रैक मैन की पेट्रोलिंग बढ़ी

दरअसल कोहरे में ट्रेन को मिल रहे सिग्लन को दूर से देख पाना संभव नहीं होता है, इसलिए ट्रेनों को धीमी रफ़्तार से चलाना होता है. इसका मक़सद किसी भी तरह के हादसे को टालना होता है. इसके अलावा रेलवे ने ट्रेनों में फ़ॉग सैफ्टी डिवाइनस, डेटोनेटर और रेल कर्मियों की ट्रेनिंग के सहारे कोहरे के मौसम में सुरक्षा के लिहाज से तैयारी की है. साथ ही ज़्यादा ठंढ वाले इलाके में रेलवे लाइन पर ट्रैक मैन की पेट्रोलिंग भी बढ़ा दी है. ताकि रेलवे ट्रैक में कहीं भी क्रैक या डैमेज हो तो उसकी पहचान की जा सके.

 

Related Articles