शोध से हुआ खुलासा, ज्यादा यात्रा करना बन सकता है कैंसर का कारण

0

बर्लिन: एक शोध में खुलासा हुआ है कि लागातार यात्रा करने से जेट लैग हो सकता है, जिससे कैंसर का ख़तरा काफी बढ़ जाता है। यह शोध ‘पीएलओएस बायोलॉजी’ पत्रिका में प्रकाशित हुआ है। बर्लिन की चैरिटे मेडिकल यूनिवर्सिटी के मुख्य लेखक एंजेला रीलोगियो ने कहा है कि हमारी आंतरिक घड़ी बाहरी प्रकाश और अंधकार के साथ तालमेल बनाते हुए चलती है और लोगों के व्यवहार व गतिविधि के स्तरों को प्रेरित करती है।

इस शोध में बताया गया है कि लोगों के आंतरिक बॉडी क्लॉक का उन कोशिकाओं के तेजी से बनने की प्रक्रिया पर काफी असर पड़ता है, जिनमें कैंसर को रोकने की क्षमता होती है।

अध्ययन के लिए टीम ने आरएएस नामक एक प्रोटीन का विश्लेषण किया, जो चूहों में लगभग एक चौथाई कैंसर वाले कोशिकाओं में सक्रिय है। आरएएस जो शरीर में कोशिकाओं के तेजी से बहुगुणित होने को नियंत्रित करता है और वह लोगों के आंतरिक बॉडी क्लॉक को भी प्रभावित करता है।

यह दो प्रोटीनों के माध्यम से होता है – आईएनके4 और एआरएफ, जो कैंसर को दबाने के लिए जाना जाता है।पिछला अध्ययन में पाया गया था कि कोशिकाओं के आकार में समय के साथ उतार चढ़ाव होता है, जिसे जीवन काल का निर्धारण और कैंसर की शुरुआत से जोड़ा जा सकता है।जैविक क्लॉक में परिवर्तन हृदय रोगों और मधुमेह के खतरे को बढ़ाने के लिए भी जाना जाता है।

loading...
शेयर करें