औद्योगिक क्षेत्रों के पास जन्मे बच्चों में सबसे ज्यादा होता है अस्थमा का खतरा

0

नई दिल्ली। अक्सर देखा जाता है कि बचपन से ही बच्चों में अस्थमा की बीमारी हो जाती है। यहां तक कि कई बार बचपन से ही उन्हें गंभीर बीमारी से गुजरना पड़ता है जो आगे चलकर समय से पहले मौत का कारण बन जाती है। हाल ही में हुए एक शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि जो बच्चे औद्योगिक स्थल के तीन किलोमीटर के दायरे में जन्म लेते हैं उनमें अस्थमा का खतरा काफी ज्यादा होता है।

अस्थमा का खतरा

बता दें, हाल ही में अमेरिका में किए गए एक शोध में इस बात का खुलासा हुआ। इस शोध में शोधकर्ताओं ने पाया कि जो बच्चे फ्रेकिंग स्थल (भारी औद्योगिक गतिविधि वाला क्षेत्र) के 0.8 किमी के दायरे में जन्म लेते हैं उनमें जन्म के समय वजन कम होने की आशंका 25 फीसदी अधिक रहती है।

वहीं या भी पता चला कि ऐसे बच्चों में  अस्थमा के अलावा कमजोरी, मृत्युदर, एडीएचडी, जीवन भर कम कमाई का जोखिम भी रहता है।

अमेरिका में प्रिंसटन यूनिवर्सिटी की जैनेट क्यूरी के मुताबिक, प्रदूषण काफी खतरनाक है। वहीं, इन जगहों के आस-पास गर्भ में पलने वाले बच्चों को यह काफी प्रभावित करता है। इसके अलावा फ्रैकिंग साइट जो कि भारी औद्योगिक गतिविधि का क्षेत्र है उसका नवजातों पर काफी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

आपको बता दें, कि पेनसिल्वेनिया में शोधकर्ताओं ने साल 2004 से 2013 के बीच जन्में 11 लाख से अधिक नवजातों के रिकॉर्ड देखे। इसमें सबसे ज्यादा प्रभावित बच्चे औद्योगिक स्थल के 0.9 किमी के दायरे में जन्म लेने वाले थे।

loading...
शेयर करें