ग्राम प्रधान पद पर सबसे ज्यादा दावे और आपत्तियां, जानें किस जिले की बदल सकती है आरक्षण सूची

सबसे ज्यादा आपत्तियां व दावे ग्राम प्रधान पद के लिए ही हैं, वहीं दूसरे नम्बर पर जिला पंचायत सदस्य के पद के लिए दावे और आपत्तियां दाखिल किये गये हैं।

लखनऊ: यूपी में ग्राम पंचायत चुनाव अब बेहद नजदीक है। पंचायत चुनाव की तारीख का इंतजार सभी लोगों को है लेकिन इससे पहले हाईकोर्ट के 15 मार्च के आदेश पर पंचायतों में दोबारा तय हुए आरक्षण और सीटों के आवंटन का काम चल रहा है।
जिला पंचायतीराज अधिकारियों ने बताया कि 3 मार्च को प्रकाशित हुई पहली सूची के मुकाबले इस बार 20 से 22 मार्च के बीच प्रकाशित पहली सूची पर जिलों में दोगुना आपत्तियां और दावे दाखिल पर काम किये गये है।

बता दें की इनमें से सबसे ज्यादा आपत्तियां व दावे ग्राम प्रधान पद के लिए ही हैं, वहीं दूसरे नम्बर पर जिला पंचायत सदस्य के पद के लिए दावे और आपत्तियां दाखिल किये गये हैं। इनके निस्तारण की प्रक्रिया पर काम जारी है। गुरूवार से शुक्रवार के बीच इनका निस्तारण कर अंतिम सूचियां भी प्रकाशित कर दी जाएंगी।

ये भी पढ़ें : 1 अप्रैल से इतने साल से अधिक उम्र के नागरिक लगवा सकते हैं Vaccine

पंचायती राज विभाग की ओर से जारी नये कार्यक्रम के अनुसार आज और कल इन दावे और आपत्तियां का निस्तारण किया जाएगा। कुछ जिलों में कल से ही अंतिम सूचियों का प्रकाशन भी शुरू हो जाएगा, 26 मार्च तक जारी किया जाना है। इसी दिन सभी जिलों से आरक्षित व अनारक्षित की गयी सीटों का पूरा ब्यौरा पंचायतीराज निदेशालय को भेज दिया जाएगा और निदेशालय भी बगैर देर किये उसी दिन राज्य निर्वाचन आयोग को यह ब्यौरा सौंप देगा।

देखिजे कितने बढ़े आपत्तियां और दावे

  • प्रयागराज में 900 दावे और आपत्तियां बढ़कर 2000 हुई.
  • लखनऊ में 671 दावे और आपत्तियां बढ़कर 1000 हुई.
  • बाराबंकी में 537 दावे और आपत्तियां बढ़कर 936 हुई.
  • बहराइच में 357 दावे और आपत्तियां बढ़कर 704 हुई.
  • गोण्डा में 907 दावे और आपत्तियां बढ़कर 953 हुई.
  • मेरठ में पिछली बार 475 दावे और आपत्तियां आईं जबकि इस बार 370.
  • शामली में पिछली बार 140 दावे और आपत्तियां आईं जबकि इस बार 128.

(ये खबर हमारे यहाँ इंटर्नशिप कर रहीं राशि चंदेल ने लिखी है) 

Related Articles