माँ ने खोया मानसिक संतुलन,११ दिनों की बेटी को जलती अंगीठी पर रखा

नई दिल्ली: घटना बरौला की है जहाँ पर एक महिला की मानसिक स्थिति सही न होने के कारण उसने अपनी 11 दिन की बेटी को जलती हुई अंगीठी पर रख दिया। पड़ोसियों ने बच्ची की रोने की आवाज सुनकर उसे बचाया, और पुलिस को सूचना थी। पुलिस ने नवजात को जिला अस्पताल में भर्ती कराया, जहां से उसे सफदरजंग अस्पताल भेज दिया।

महिला कई दिनों से चिल्ला रही थी आग-आग

मिली सूचना के आधार पर पुलिस ने बताया, कि रत्नेश की मानसिक स्थिति खराब हो गई। वह अजीब हरकतें कर रही हैं और पिछले दो दिन से आग लगने के बारे में कई बार शोर मचा चुकी है। शिकोहाबाद निवासी रामप्रेम ऑटो चालक है और परिवार के साथ बरौला में रहता है।  12 जुलाई को रामप्रेम की पत्नी रत्नेश ने बेटी को जन्म दिया था। बच्ची के पैदा होने के बाद रत्नेश का मानसिक संतुलन बिगड़ गया। मंगलवार सुबह रामप्रेम अपने काम पर गया और सात साल का बेटा स्कूल चला गया।

एक्स, बाई, जेड, जेड प्लस सुरक्षा क्या है नेताओं को क्यों दी जाती है जानिए

रत्नेश घर पर नवजात के साथ अकेली थी। रत्नेश के घर से धुआं निकल रहा था और नवजात रो रही थी। तभी आवाज सुनकर आसपास के लोग मौके पर पहुंचे तो रत्नेश अंगीठी के पास खड़ी होकर रो रही थी।
अंगीठी पर रखे उपले पर बच्ची थी। हालांकि आग तेज नहीं थी। लोगों ने तुरंत नवजात को बाहर निकाला और 100 नंबर पर फोन किया। एसपी सिटी विनीता जायसवाल ने बताया कि पुलिस ने मौके पर पहुंचकर बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराया है। मामले की जांच की जा रही है।

Related Articles