एक माँ ने 70 हजार रुपये लगाई अपनी बेटी की कीमत

yuvak
आरोपी युवक शिवनाथ जिस पर लड़की को खरीदने का आरोप है

देहरादून। अपनी ही बेटी पर जुल्म-ओ- सितम की एक माँ ने इंतेहा कर दी। लव मैरिज करने वाली बेटी को पहले उसके पति से अलग करवा दिया। धमकियाँ दीं। उसकी जबरन दूसरी जगह शादी करवा दी। बल्कि ये कहिये 70 हजार रुपये में बेच दिया। जिस आदमी से दुबारा शादी करवाई उसे बेटी के पहले से शादी-शुदा होने की जानकारी भी नहीं दी। अब मामला खुला तो पुलिस ने बेटी को बेचने वाली माँ और खरीदने वाले व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया है।

एसएसपी डा. सदानंद दाते ने बताया कि उत्तरकाशी के बनचौरा क्षेत्र की रहने वाली एक महिला ने शिकायत की थी कि उसकी शादीशुदा भतीजी की देहरादून के ब्रहमपुरी में रहने वाली उसकी ही सगी मां ने दोबारा जबरन शादी करा दी है। महिला ने अपनी भाभी पर भतीजी को 70 हजार में बेचने का भी आरोप लगाया। महिला ने बताया कि शनिवार दोपहर भतीजी ने उसे फोन पर बेचे जाने की जानकारी दी। सूचना के बाद वह तुरंत ही देहरादून पहुंची।

महिला की शिकायत के बाद डालनवाला पुलिस और एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल ने बंगाली मोहल्ले में रहने वाले शिवनाथ यादव के घर छापा मारा। जहां से शिवनाथ यादव को हिरासत में लेकर युवती को उसके घर से बरामद कराया। दोनों को कोतवाली डालनवाला लाया गया। जहां पीड़ित युवती ने 70 हजार में बेचे जाने का आरोप अपनी मां पर लगाया। इसके बाद पुलिस ने उसकी मां को भी हिरासत में ले लिया। पीड़ित युवती ने बताया कि उसकी छह माह पूर्व ही मनचौरा निवासी कुलवीर से लव मैरिज हुई थी। शादी के बाद वह गांव में ही रह रही थी। कुछ दिन पूर्व ब्रहमपुरी निवासी अपनी मां के घर आई थी।

वहां उसकी मां ने पहले तो उसे उसके पति के खिलाफ भड़काया। बाद में मां ने उसे डरा धमकाकर चार दिसंबर को उसकी जबरन बंगाली मोहल्ला निवासी शिवनाथ यादव से शादी करा दी। बदले में मां ने 70 हजार रुपये लिए। 15 दिसंबर को शादी का रिसेप्शन भी दिया गया। जबकि आरोपी महिला का कहना है कि बेटी ने उससे पहली शादी की बात छुपाई और शादी कराने को कहा था। उधर, आरोपी शिवनाथ का कहना है कि उसे महिला और उसकी बेटी ने पहली शादी की बात नहीं बताई थी। उसने ये भी कहा कि उससे पैसे का कोई लेन-देन नहीं हुआ था। पुलिस ने आरोपी महिला के खिलाफ ह्यूमन ट्रैफिकिंग और आरोपी शिवनाथ के खिलाफ ह्यूमन ट्रैफिकिंग, धमकी और दुराचार का मुकदमा दर्ज कर लिया।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button