मातृ वंदना सप्ताह: सर्वाधिक रजिस्ट्रेशन कर यूपी ने बनाया कीर्तिमान, इतने हुए नए आवेदन

लखनऊ: पहली बार गर्भवती/धात्री महिलाओं के बेहतर स्वास्थ्य देखभाल और पोषण के लिए पूरे देश में चलायी जा रही प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना को गति प्रदान के लिए एक से सात सितम्बर तक मातृ वंदना सप्ताह मनाया गया । इस सप्ताह के दौरान योजना के तहत 99329 गर्भवती का रजिस्ट्रेशन कर उत्तर प्रदेश ने पूरे देश में कीर्तिमान स्थापित किया है। हर साल मनाये जाने वाले इस सप्ताह की इस बार की थीम ‘मातृ शक्ति-राष्ट्र शक्ति’ निर्धारित की गयी थी।

यह जानकारी प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के राज्य नोडल अधिकारी राजेश बांगिया ने दी । उन्होंने बताया कि इस सप्ताह के दौरान प्रदेश में योजना के तहत सर्वाधिक रजिस्ट्रेशन करने वाले मंडलों में पहले स्थान पर मेरठ, दूसरे स्थान पर अयोध्या, तीसरे स्थान पर लखनऊ, चौथे स्थान पर मुरादाबाद और पांचवें स्थान पर कानपुर रहे। इस विशेष सप्ताह में मेरठ मंडल में 10168, अयोध्या मंडल में 9383, लखनऊ मंडल में 9046, मुरादाबाद मंडल में 6643 और कानपुर मंडल में 6299 नए रजिस्ट्रेशन किये गए।

उन्होंने कहा कि सभी के सम्मिलित प्रयास से ही यह सफलता अर्जित हुई है, जिसके लिए पूरी टीम बधाई की पात्र है । इसके अलावा विभागीय अधिकारियों के खास शुक्रगुजार हैं जिनके सफल मार्गनिर्देशन में यह उपलब्धि हासिल हुई है।

योजना के तहत तीन किश्तों में मिलते हैं 5000 रूपये

बांगिया ने बताया कि पहली बार गर्भवती होने पर योजना के तहत पंजीकरण के लिए गर्भवती और उसके पति का कोई पहचान पत्र या आधार कार्ड, मातृ-शिशु सुरक्षा कार्ड, बैंक पासबुक की फोटो कापी जरूरी है । बैंक अकाउंट ज्वाइंट नहीं होना चाहिए। पंजीकरण के साथ ही गर्भवती को प्रथम किश्त के रूप में 1000 रुपये दिए जाते हैं।

जन्म का पंजीकरण

प्रसव पूर्व कम से कम एक जांच होने और गर्भावस्था के छह माह बाद दूसरी किश्त के रूप में 2000 रुपये और बच्चे के जन्म का पंजीकरण होने और बच्चे के प्रथम चक्र का टीकाकरण पूरा होने पर धात्री महिला को तीसरी किश्त के रूप में 2000 रुपये दिए जाते हैं। यह सभी भुगतान गर्भवती के बैंक खाते में ही किये जाते हैं ।

Related Articles