फिल्म रिव्यू: ‘धड़क’ ने बढ़ाई पहले ही दिन लोगो की धड़कन, ऐसा रहा बॉक्स ऑफिस पर हाल

0

मुंबई। बॉलीवुड की दिवंगत एक्ट्रेस श्रीदेवी की बेटी जान्हवी कपूर की फिल्म धड़क आखिरकार इस शुक्रवार यानि 20 जुलाई को रिलीज हो ही गई हैं. इस फिल्म को बेहद पसंद किया जा रहा है। जान्हवी ने इस फिल्म से बॉलीवुड में डेब्यू किया हैं. इस फिल्म में उनके को-स्टार शाहिद कपूर के छोटे भाई ईशान खट्टर हैं.

जाह्नवी कपूर- ईशान खट्टर स्टारर फिल्म धड़क ने 8.71 करोड़ की धमाकेदार ओपनिंग दी है। बता दें, शशांक खेतान के निर्देशन में बनी इस फिल्म ने ओपनिंग के साथ ही एक बड़ा रिकॉर्ड बनाया है। यह न्यूकमर्स को लिए बॉलीवुड की सबसे बड़ी ओपनिंग फिल्म बन गई है। फिल्म ने स्टूडेंट ऑफ दि ईयर का रिकॉर्ड तोड़ा है। आइये बताते हैं आपको इस फिल्म का बॉक्स ऑफिस पर रेकॉर्ड-

फिल्म का नाम: धड़क

स्टार कास्ट: ईशान खट्टर, जान्हवी कपूर ,आशुतोष राणा

अवधि: 2 घंटा 17 मिनट

डाइरेक्टर: शशांक खेतान

रेटिंग : 3 स्टार

मूवी टाइप : ड्रामा,रोमांस

ये है कहानी- धड़क की कहानी राजस्‍थान के उदयपुर शहर से शुरू होती है। राज परिवार से जुड़ी पार्थवी (जाह्नवी कपूर) न तो अपने राजपरिवार के बंधनों और कायदों को दिल से स्वीकार करती है और न ही उसे अपनी आजादी में भाई चाचा या फिर अपने पिता तक का दखल देना पसंद है। दूसरी ओर पार्थवी के पिता ठाकुर रतन सिंह (आशुतोष राणा) को भी कतई बर्दाश्त नहीं कि कोई उसके किसी भी फैसले के खिलाफ जाए। पार्थवी के कॉलेज में पढ़ने वाले मधुकर (ईशान खट्टर) को पहली नजर में ही पार्थवी से प्यार हो जाता है, मधुकर के पिता को मंजूर नहीं कि उनका बेटा ऊंची जाति और राजघराने की पार्थवी से मिले, लेकिन मधुकर और पार्थवी इन सब की परवाह किए बिना एक-दूसरे से मिलते हैं। दूसरी ओर ठाकुर साहब चुनाव लड़ने की तैयारी में लगे हैं, ऐसे में उन्हें वोटर को रिझाना भी मजबूरी बनता जा रहा है। रतन सिंह को पार्थवी और मधुकर के प्यार के बारे में जब पता लगता है तो मधुकर और उसकी फैमिली पर उनका कहर टूट पड़ता है। ऐसे में दोनों उदयपुर से भाग जाते हैं, अब आगे क्या होगा यह जानने के लिए आपको थिअटर का रुख करना होगा।

इस वजह से देख सकते हैं ये फिल्म : फिल्म की कहानी का आगाज मराठी फिल्म सैराट के जैसे ही है लेकिन अंजाम अलग है. फिल्म में शशांक खेतान का फ्लेवर है जो आपको धीरे-धीरे बढ़ती कहानी में नजर भी आता है. हालांकि पहला भाग थोड़ा धीमा है लेकिन इंटरवल के बाद कहानी अलग रफ्तार में आगे बढ़ती है. फिल्म का डायरेक्शन काफी कमाल का है और जिस तरह से शशांक खेतान ने उदयपुर और कोलकाता को कैमरे में कैद किया है उसकी प्रशंसा लाजमी है. फिल्म का बैकग्राउंड स्कोर कहानी के साथ साथ चलता है. आशुतोष राणा और फिल्म में ईशान खट्टर के दोस्त के रूप में कलाकारों ने बढ़िया काम किया है वही दूसरी फिल्म होने के बावजूद ईशान खट्टर ने लाजवाब प्रदर्शन किया है. जाह्नवी कपूर की पहली फिल्म है और फिल्मांकन के दौरान उनके अभिनय की बारीकियां देखने को मिलती हैं और कई ऐसी जगह है जहां आपको श्री देवी जी की याद भी आती है, जाह्नवी की खासियत उनकी आवाज़ भी है जिसका एक अलग तरह का टेक्सचर है. कुछ सीन तो ऐसे हैं जहां वह काफी उम्दा अभिनय करती हुई दिखाई देती है. मेकर्स ने फिल्म की प्रोडक्शन वैल्यू काफी रिच रखी है.

ये हैं फिल्म की कमज़ोर कड़ियां : फिल्म की कहानी की तुलना अगर आप मराठी फिल्म सैराट से करेंगे तो शायद यह फिल्म आप की आशाओं पर खरी ना उतरे, शशांक खेतान ने स्क्रीनप्ले में समय-समय पर अपने हिसाब से बदलाव किए हैं, फिल्म का टाइटल ट्रैक जबरदस्त है लेकिन जिन लोगों ने याड लागला और झिंगाट को मराठी में सुना है शायद फिल्मांकन के दौरान उन्हें यह हिंदी में पसंद ना आए. फिल्म में रोमांस के साथ साथ ऑनर किलिंग जैसे मुद्दे की तरफ भी ध्यान दिलाने की कोशिश की गई है लेकिन कई ऐसी जगह है जहां पर दर्शक के तौर पर शायद आपको इमोशन कम नजर आए. जाह्नवी और ईशान के किरदारों के अलावा बाकी पात्रों पर फिल्म के सेकंड हाफ में और भी ज्यादा ध्यान दिया जा सकता था.

बॉक्स ऑफिस : मराठी फिल्म ‘सैराट’ को लगभग 4 करोड़ के बजट में बनाया गया था और ख़बरों के मुताबिक़ धड़क फिल्म की लागत 55 करोड़ बतायी जा रही है और अगर प्रोमोशन का बजट मिला दें तो यह 70 करोड़ की फिल्म बतायी जा रही है. फिल्म को बड़े पैमाने पर रिलीज किया गया है , देखना बेहद ख़ास होगा की वीकेंड की कमाई कितनी होती है.

क्यों देखें : जाह्नवी और ईशान की बेहतरीन केमिस्ट्री, राजस्थान की पृष्ठभूमि में बनी इस फिल्म की कहानी में बेशक नया कुछ न हो लेकिन कहानी को ऐसे दिलचस्प ढंग से पेश किया गया है कि आप कहानी से बंधे रहते हैं। क्रिटिक्स की तरफ से इस फिल्म को मिले हैं साढ़े 3 स्टार।

loading...
शेयर करें