SC के फैसले से धर्म के ठेकेदार नाराज, कहा-तीन तलाक ख़त्म होने से घरों में होंगे दंगे

0

गोरखपुर। सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को अपने एक फैसले में तीन तलाक को असंवैधानिक करार दिया। इस फैसले के बाद से देश की मुस्लिम महिलाओं में जहां ख़ुशी का माहौल है वहीं, कुछ धर्म के ठेकेदार इस बात से खासा नाराज हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद गोरखपुर के शहर काजी मुफ़्ती वलीउल्लाह ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का विरोध किया है।

काजी मुफ़्ती वलीउल्लाह कहा कि तीन तलाक का मसला मजहबी है। यह शरीयत से जुड़ा मसला है। इस पर प्रतिबंध लगने से मुस्लिम समाज में बिखराव होगा। इतना ही नहीं मुस्लिम घरों में दंगे शुरू हो जाएंगे। इस पर प्रतिबंध नहीं लगना चाहिए।

ये भी पढ़ें..तीन तलाक पर आजम खान बोले, धर्म में बदलाव मंजूर नहीं

आपको बता दें कि मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने अपना ऐतिहासिक फैसला सुनाया।  अपने इस फैसले में कहा कि तीन तलाक पर सरकार 6 महीने के अंदर कानून बनाए और तब तक तीन तलाक पर रोक रहेगी। वहीं 5 में से 3 जजों ने तीन तलाक को असंवैधानिक बताया। स्टिस खेयर ने अपने फैसले में कहा है कि संसद तीन तलाक पर कानून बनाए। जब तक कानून नहीं बनता तब तक पर इसपर रोक लगायी जाती है।

च जजों की बेंच इस मामले में फैसला सुनाया था जिसमें चीफ जस्टिस जे. एस खेहर, जस्टिस कुरियन जोसफ, जस्टिस आर। एफ नरिमन, जस्टिस यूयू ललित, जस्टिस अब्दुल नजीर। अपने फैसले में स्टिस खेहर ने कहा- तलाक-ए-बिद्दत संविधान के अनुच्छेद 14,15, 21 और 25 का उल्लंघन नहीं करता है। यहां आपको बता दें कि अनुच्छेद 14 और 15 हर नागरिक को समानता का अधिकार देते है। यानी जाति धर्म, भाषा या लिंग के आधार पर भेदभाव नहीं किया जा सकता। अनुच्छेद 21 हर नागरिक को सम्मान के साथ जीने का हक देता है।

 

loading...
शेयर करें