बहू अपर्णा के लिए मुलायम ने अखिलेश से मांगी ये सीट, आजमगढ़ चुनाव से लड़ सकते है अखिलेश यादव

0

नई दिल्ली। समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव लोकसभा चुनाव को लेकर बिलकुल तैयार है अभी तक उन्होंने यूपी की 11 लोकसभा सीटों पर उम्मीदवारों को भी चुन लिया है। 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए बहुजन समाज पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल के साथ बनाए गए महागठबंधन में समाजवादी पार्टी को चुनाव लड़ने के लिए 37 सीटें मिली हैं। इस बीच सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव के चुनाव लड़ने को लेकर सियासी चर्चाएं तेज हो गई हैं। दरअसल खबर है कि मुलायम सिंह चाहते हैं कि अपर्णा यादव को समाजवादी पार्टी से टिकट दिया जाए। मुलायम सिंह यादव ने अपर्णा की सीट को लेकर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से भी बात की है।

अपर्णा ने कहा, ‘नेताजी का निर्णय मंजूर होगा’

समाजवादी पार्टी से जुड़े सूत्रों का कहना है कि मुलायम सिंह यादव चाहते हैं कि अपर्णा यादव को यूपी की सम्भल लोकसभा सीट से टिकट दिया जाए। मुलायम ने इस बारे में अखिलेश से चर्चा भी की है। वहीं, इस संबंध में अपर्णा यादव का कहना है कि उनके चुनाव लड़ने को लेकर नेताजी या अखिलेश भैया ही फैसला लेंगे। अपर्णा ने कहा, ‘सम्भल से चुनाव लड़ने के बारे में अभी मुझसे किसी तरह की राय नहीं ली गई है। मेरे बारे में नेताजी जो भी निर्णय लेंगे, मैं उसका सम्मानपूर्वक पालन करूंगी। मैं राजनीति में सिर्फ नेताजी की वजह से हूं, इसलिए वह जो भी फैसला लेते हैं मैं उससे बंधी हुई हूं। वह पहले दिन से ही मेरे लिए राजनीतिक गुरु हूं।’

शिवपाल की पार्टी पर भी बोली अपर्णा

अपर्णा यादव अपने चाचा शिवपाल यादव की पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी में जाने की भी चर्चा थी। इस बारे में जब उनसे पूछा गया तो अपर्णा ने कहा, ‘चाचाजी भी हर फैसला मुलायम सिंह जी से ही पूछकर लेते हैं। वो भी हमारे परिवार के सदस्य हैं। मेरे चुनाव लड़ने को लेकर भी अंतिम फैसला नेताजी ही लेंगे।’ गौरतलब है कि अखिलेश यादव ने जिन 11 सीटों पर अभी तक टिकटों का ऐलान किया है, उनमें मैनपुरी लोकसभा सीट से मुलायम सिंह यादव, बदायूं लोकसभा सीट से धर्मेंद्र यादव, फिरोजाबाद लोकसभा सीट से अक्षय यादव और कन्नौज सीट से डिंपल यादव को टिकट दिया गया है।

अखिलेश लड़ सकते हैं आजमगढ़ से चुनाव

वहीं, समाजवादी पार्टी से जुड़े सूत्रों की मानें तो अखिलेश यादव खुद यूपी की आजमगढ़ लोकसभा सीट से चुनाव मैदान में उतर सकते हैं। सपा-बसपा महागठबंधन बनने के बाद आजमगढ़ सीट को अखिलेश यादव के लिए चुनने के पीछे एक बड़ी वजह है। 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर के बावजूद मुलायम सिंह यादव ने यहां से भाजपा उम्मीदवार रमाकांत यादव को हराकर जीत हासिल की। मुलायम सिंह को इस सीट पर 340306 और भाजपा उम्मीदवार को 277102 वोट मिले। ऐसे में अखिलेश कि आजमगढ़ से चुनाव लड़ने में फायदा हो सकता है .

loading...
शेयर करें