मुम्बई सिटी एफसी आईएसएल सीजन-5 में कर रही है धमाकेदार प्रदर्शन

मुंबई: हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) का पांचवां सीजन आधा पड़ाव पार कर चुका है और हमारे सामने ऐसी टीमें आ चुकी हैं, जिन्होंने प्लेऑफ की अपनी दावेदारी बेहद मजबूत कर ली है। बेंगलुरू एफसी ने शानदार प्रदर्शन करते हुए अंकतालिका में पहला स्थान हासिल किया है तो वहीं नार्थईस्ट युनाइटेड एफसी ने अपनी आक्रामक फुटबाल से सभी का ध्यान अपनी तरफ खींचा है। इसके बाद एफसी गोवा है जो अभी तक अच्छा मनोरंजन करने वाली टीम साबित हुई है और अंकतालिका में चौथे स्थान पर है।

लेकिन दूसरे नंबर पर जो टीम है वो मुंबई सिटी एफसी है। आइलैंडर्स के नाम से मशहूर यह टीम 10 मैचों में 20 अंक लेकर बेहद मजबूती से दूसरे स्थान पर रहते हुए प्लेऑफ में जाने का दावा ठोक चुकी है।

सीजन के चौथे मैच में हालांकि वह चार अंकों के साथ मुश्किल स्थिति में थी। चौथा मैच उसका एफसी गोवा के खिलाफ था जहां गोवा ने मुंबई को 5-0 से मात दी थी। इस हार ने मुंबई के कोच जॉर्ज कोस्टा को अपने खिलाड़ियों के नजरिए और प्ररेणा पर सावल खड़ा करने के मौके दिए थे।

कोस्टा ने कहा था, “एफसी गोवा के खिलाफ दूसरे हाफ में हमने मैच दे दिया था। इसलिए मैं दुखी हूं। इसलिए नहीं की हम 0-5 से हार गए बल्कि इसलिए क्योंकि आखिरी के 15 मिनट में हमारे खिलाड़ी मैच खत्म होने का इंतजार कर रहे थे।”

उन्होंने कहा था, “खिलाड़ी दौड़ नहीं रहे थे और न ही मैच पर ध्यान दे रहे थे। आखिरी के 15-20 मिनटों में जो हुआ उससे मैं दुखी था। जिस तरह से खिलाड़ियों ने हार मान ली थी उससे मैं दुखी थी। एक पेशेवर खिलाड़ी के तौर पर आप ऐसा नहीं कर सकते।”

कोच के इन शब्दों ने मुंबई सिटी के खिलाड़ियों को झकझोर कर रख दिया था और उनमें एक नई जान फूंक दी थी। इसके बाद टीम ने शानदार प्रदर्शन किया और बेहतरीन परिणाम दिए।

बीते छह मैचों में वह अजेय है और उसने 16 अंक हासिल किए हैं। बीते छह मैचों में से उसने पांच मैच जीते हैं तो एक मैच ड्रॉ रहा है। आईएसएल में यह क्लब का अभी तक का सबसे अच्छा अजेय अभियान है।

तब से लेकर अब तक टीम ने 10 गोल किए हैं और दो गोल खाए हैं। जो दो गोल उसने खाए हैं वह एक ही मैच में दिल्ली डायनामोज के खिलाफ आए थे जहां मुंबई ने 4-2 से जीत हासिल की थी। अन्य पांच मैचों में मुंबई ने क्लीनशीट बना कर रखी और अपनी टैली को छह तक पहुंचा दिया।

मुंबई सिटी की इस शानदार फॉर्म का कारण उसके विदेशी खिलाड़ी रहे हैं। माउदोउ साउगोउ और आर्नल्ड इसोको ने टीम में शानदार योगदान दिया है लेकिन पाउलो माचाडो का शानदार खेल मुंबई सिटी के प्रदर्शन में सुधार का बड़ा कारण है।

मुंबई ने इसके साथ ही डिफेंस ने भी अच्छा सुधार किया है जहां लूसियान गोइयान ने अगुआई की है और इसमें सुभाशीष बोस और जॉएनक लोरेंसो का उन्हें अच्छा समर्थन मिला है।

बीते छह मैचों में मुंबई की टीम ने अपने प्रदर्शन में जिस तरह की निरंतरता दिखाई है, अगर उसने आने वाले मैचों में भी इसे कायम रखा तो निश्चित ही वह अगले दौर में जाएगी।

Related Articles