मुंबई: अन्य भागों में ‘दही-हांडी’ उत्सव की धूमधाम, युवाओं के घायल होने की ख़बर

0

मुंबई: महाराष्ट्र के मुंबई और अन्य भागों में सोमवार को ‘दही-हांडी’ उत्सव धूमधाम से मनाया जा रहा है, लेकिन कई जगहों से युवाओं के घायल होने की भी खबरें हैं। अधिकारियों ने कहा, “दोपहर तक, कई स्थानों पर मानव पिरामिड बनाने के क्रम में 10 युवा गिरकर घायल हो गए और उन्हें अस्पताल ले जाया गया है।”

सुबह से ही, हजारों की संख्या में गोविंदा समूह पुणे, नागपुर, कोल्हापुर और अन्य शहरों में मानव पिरामिड बनाकर ‘दही-हांडी’ तोड़ने के लिए बाहर निकले।

मुंबई में रविवार-सोमवार की आधीरात भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव को जुहू व चौपाटी स्थित इस्कॉन के मंदिरों में घंटियों की आवाज और आरती के साथ मनाया गया। इस अवसर पर मुंबई के कई क्षेत्रों में बारिश भी हुई।

इस्कॉन राधा चौपाटी के प्रमुख राधानाथ स्वामी ने कहा, “यहां हजारों श्रद्धालुओं ने पूजा की। मंदिर को राजस्थानी थीम में सजाया गया था और भगवान कृष्ण को 500 स्वयंसेवकों द्वारा बनाए गए 1008 तरह के भोग समर्पित किए गए।”

‘दही-हांडी’ उत्सव के अवसर पर रंगीन कपड़े पहने गोविंदा समूह पूरे शहर में हांडी तोड़ने की कोशिश कर रहे थे। फिल्म स्टार रवीना टंडन और सुनील शेट्टी भी उत्सव में शामिल हुए और इस अवसर पर महाराष्ट्र का मशहूर नृत्य ‘लावणी’ भी पेश किया गया।

दही-हांडी समन्वय समिति के प्रमुख बाला पदेलकर ने कहा, “यह पहला वर्ष है, जब इसे ‘खेल’ समारोह की तरह मनाया जा रहा है और इसमें मुंबई, ठाणे, पालघर और रायगढ़ जिलों से करीब 100 पंजीकृत संगठन भाग ले रहे हैं। उन्हें प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए सभी ‘गोविंदाओं’ की सुरक्षा का कड़ाई से पालन करने के लिए कहा गया है”

वहीं लोक जागृति सामाजिक संस्था की अध्यक्ष स्वाति पाटील ने कहा कि अधिकतर जगहों पर सुरक्षा मानकों का पूरी तरह उल्लंघन किया गया है और 14 साल से कम उम्र के बच्चे को पिरामिड के सबसे ऊपरी स्तर पर चढ़ते देखा गया।

पाटील ने कहा, “खार में चार दिन पहले अभ्यास सत्र के दौरान, एक 12 वर्षीय बच्चा चिराग पाटेकर पिरामिड से गिर गया और वह बांद्रा अस्पताल में कोमा में है। अब उसके भविष्य का कौन जिम्मेदार है।”

loading...
शेयर करें