कश्मीर में बुरहान वानी की जगह लेने आया आतंकी मूसा, अलकायदा ने सौंपी घाटी की कमान

0

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में आतंकी अपनी नापाक हरकतें करने से बाज़ नहीं आ रहे हैं। आए दिन घाटी में आतंकी हमले होते आ रहे हैं, हालांकि भारतीय सेना हमेश आतंकवादियों को मुंहतोड़ जवाब देती आई है। बीते दिनों कश्मीर में आतंकियों को सरगना बुरहान वानी के मारे जाने के बाद अब आतंकी जाकिर मूसा को अलकायदा ने हाल ही में कश्मीर के लिए गठित अपने विंग “अंसार गजावा उल हिंद” का चीफ कमांडर नियुक्त किया है।

यह भी पढ़ें : जम्मू-कश्मीर : इस साल हमारी भारतीय सेना ने 75 आतंकियों को जहन्नुम पहुंचाया

जाकिर मूसा

सुरक्षा एजेंसियों से इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है

सुरक्षा एजेंसियों से इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है। मूसा ने 16 मई को जारी वीडियो संदेश में अलकायदा की सराहना करते हुए कहा था कि कश्मीर में इस्लामिक राज की बहाली तक हमारी जंग जारी रहेगी। अलकायदा ने एक बयान जारी कर दावा किया है कि जाकिर मूसा ने कश्मीर में वैश्विक आतंकवादी संगठन की शाखा खोल दी है।

यह भी पढ़ें : कश्मीर: हुर्रियत नेताओं की गिरफ्तारी के खिलाफ संगठन ने किया बंद का आह्वान

कश्मीर में शरिया लागू करने के लिए विडियो जारी कर चुका है

मूसा ने पूर्व में इस्लामिक राज्य की स्थापना और कश्मीर में शरिया लागू करने के लिए विडियो जारी कर चुका है। उसने आतंकी संगठन अल-कायदा के प्रति भी अपना झुकाव स्पष्ट किया था। मूसा के नए संगठन का नाम असंर घाजवट-उल-हिंद है। बयान में कहा गया है, मुजाहिद बुरहान वानी की शहादत के बाद, कश्मीर में जिहाद उत्तेजना के स्तर में प्रवेश कर ​गया है। जैसा कि कश्मीर का मुस्लिम राष्ट्र जिहाद का झंडा ले जाने के लिए प्रतिबद्ध है। इस लक्ष्य के लिए, शहीद बुरहान वानी के साथियों ने मुजाहिद जाकिर मूसा के नेतृत्व के तहत जिहाद के लिए एक नया अभियान शुरू किया है।

जाकिर मूसा

यह भी पढ़ें : अयूब पंडित हत्याकांड मामले में पुलिस ने 20 पर कसा शिकंजा, कुछ अन्य की भी हो सकती है गिरफ्तारी

संगठन के आधिकारिक मीडिया अल-हुर्र की भी घोषणा की गई

अंसर घाजवट-उल-हिंद की स्थापना की घोषणा के साथ ही इस संगठन के आधिकारिक मीडिया अल-हुर्र की भी घोषणा की गई। अल-हुर्र का अर्थ है जो पूरी तरह से स्वतंत्र हो। अल-हुर्र के लोगो को भी इस दौरान जारी किया गया। भारतीय जांच एजेंसी अब इस बात पर नजर रखेंगी कि मूसा के विश्वासपात्र अब अल-कायदा के साथ जुड़ेंगे या फिर आईएस के साथ उनकी निकटता बनेगी।

loading...
शेयर करें