मां के दरबार में मुस्लिम जप करते हैं जहां

350x350_IMAGE46576020

अयोध्या। आमिर खान, सलमान खान और शाहरुख खान के बयानों ने देश में असहिष्णुता की चर्चा को भले ही हवा दी हो। हमारे देश की आबोहवा इस सबसे बेखबर हो कर बह रही है। इस प्रकार का बयान देने वाले रामनगरी आयें। यहां शक्तिपीठ मुबारक गंज तथा बिल्हरी शरीफ का भ्रमण करें। तब शायद उन्हें भी पता चल जायेगा कि भारत दुनिया का सबसे शांतिप्रिय देश है और यहां से अधिक प्रेम और कहीं नहीं है।

फैजाबाद लखनऊ रोड पर स्थित मुबाकर गंज में आध्यात्म शक्ति पीठ है। यहां देवी देवताओं के विग्रह लगे है। मुख्यतया मां पीताम्बरा तथा मां तारा की पूजा की जाती है। नवरात्र हो या गुरु पूर्णिया यहां श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ती है।

यहां सबसे खास बात यह है कि जाति और धर्म की दीवार टूट जाती है। मुल्लिम भी यहां पूजन करते है। आरती में शामिल होते है। प्रख्यात समाजसेवी डा निहाल रजा , सहित्यकार सलाम खां फरीद , शमीम हैदर , फजल ए इमाम , परवाल रहमानी , ख्वाब अकबराबदी ऐसे नाम है जो मंदिर के हर आयोजन में शरीक होते है।

मंदिर के हर आयोजन में खुलकर चंदा देते है। मंदिर में मुस्लिमों को भी मां के दरबार में जप करते देखा जा सकता है। यहां का प्रेम अगर देखें तो शायद इन खानों को और उस असहिष्णुता की बयार में बहने वालों को अपने बयानों पर पछतावा हो।

इसी प्रकार जिले के पूरा बाजार व राजेपुर गांव के बीच सुप्रसिद्ध सूफी संत कुल हिन्द हजरत मखदम् सैय्यद कयामुद्दीन भीखा मक्की की आध्यात्मिक खानकाह पवित्र बिलहरी शरीफ की दरगाह है। ये हिन्दु मुस्लिम एकता का प्रतीक बनी हुई है। यहां हिन्दु तथा मुस्लिम सम्प्रदाय के लोग साथ साथ चादर चढ़ाते रहते है। यहां का इतिहार लगभग चार सौ वर्ष पुराना है। इस महत्वपूर्ण दरगाह को वर्षो पूर्व से सूर्यवंश क्षत्रिय राजघराने का संरक्षण मिलता चला आ रहा है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button